antonio guterres

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से विकासशील देशों को घरेलू संसाधन जुटाने और निजी निवेशों को आकर्षित करने में सहायता करने का आग्रह किया है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने संयुक्त राष्ट्र और शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के बीच आतंकवाद-रोधी साझेदारी की सराहना की है। शांति, सुरक्षा और स्थिरता पर यूएन-एससीओ सहयोग पर आयोजित एक कार्यक्रम में मंगलवार को गुटेरस ने एससीओ को क्षेत्रीय कूटनीति, बहुराष्ट्रवाद और यूरेशिया में सबसे ज्यादा जरूरी शांति और सुरक्षा मुद्दों के संबंध में सहयोग बढ़ाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाला बताते हुए उसकी प्रशंसा की।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने अफगानिस्तान में एक मस्जिद के अंदर हुए हमले की कड़ी निंदा की है। हमले में कई लोगों की मौत हो गई थी। उनके प्रवक्ता ने स्टीफन डुजारिक ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, "हमले के लिए जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया कि एबेलियन फिलहाल महासभा और सम्मेलन प्रबंधन के उप महासचिव हैं।

चीन व अमेरिका के बीच के तनावों का जिक्र करते हुए गुटेरेस ने संवाददाताओं से कहा, "दो बड़ी वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं के बीच बढ़ते तनाव से मैं परेशान हूं।"

गुटेरेस ने कहा, "इतिहास के सबसे गर्म महीने का रिकॉर्ड अगर जुलाई माह नहीं भी तोड़ पाया होगा, फिर भी यह उसके समान ही था। जून में भी यही हुआ, वह सर्वाधिक गर्म रहा।"

हमलों और उनकी जांच से संबंधित एक प्रश्न का जवाब देते हुए संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा, "अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में जो भी हो, हम इस संबंध में किसी भी पहल का समर्थन करेंगे, बशर्ते यह स्वतंत्र हो।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने गुटेरस के हवाले से कहा, "मैं नागरिक जहाजों पर किसी भी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। वस्तुस्थिति कायम रहनी चाहिए और जिम्मेदारियां स्पष्ट होनी चाहिए।"

मोदी सितंबर में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासचिव के क्लाइमेट एक्शन समिट में भाग ले सकते हैं। बीते साल गुटेरेस ने मोदी के जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में उनके नेतृत्व के लिए संयुक्त राष्ट्र के सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान 'चैंपियन ऑफ अर्थ अवार्ड' से सम्मानित किया था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, कार्यालय ने एक बयान में कहा कि कौमजियान म्यांमार तंत्र के पहले प्रमुख होंगे, जिसे मानवाधिकार परिषद ने 27 सितंबर, 2018 को गठित किया था और 22 दिसंबर, 2018 को महासभा द्वारा स्वीकृत किया गया था।