Article 370

जनवरी से अगस्त 2019 के दौरान भारत से पाकिस्तान को चाय का निर्यात सिर्फ 48 लाख डॉलर (करीब 34 करोड़ रुपये) मूल्य के 31.4 लाख किलोग्राम का हुआ है।

मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों से सामानों के आयात को सीमित करने के लिए नरेंद्र मोदी की सरकार टैरिफ तथा गैर-टैरिफ दोनों ही विकल्पों पर विचार कर रही है।

मोदी सरकार केसर की पैदावार बढ़ाकर किसानों को लखपति बनाने की दिशा में मिशन मोड में काम कर रही है।

घरेलू राजनैतिक चुनौतियों से बचने के लिए वहां के मंत्री भी कश्मीर की आड़ लेने में जुटे हुए हैं। पाकिस्तान में मौलाना फजलुर्रहमान की जमियत उलेमा-ए-इस्लाम-फज्ल 31 अक्टूबर को आजादी मार्च आयोजित कर रहे हैं।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की कश्मीर मुद्दे पर भड़काऊ बयानबाजी जारी है। उन्होंने एक बार फिर ‘कश्मीर में...

दरअसल, गुरुवार को मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान 370 पर कांग्रेस का आधिकारिक स्टैंड पूछे जाने पर मनमोहन सिंह ने कहा था, "जब आर्टिकल 370 पर बात हुई, जब यह बिल पार्लियामेंट में आया तो कांग्रेस ने इसके हक में वोट दिया, विरोध नहीं किया। विरोध सिर्फ बिल लाने के तौर-तरीकों पर था।"

भारत की तरफ से आयात पर लगाम लगाने की खबरों के बीच भारतीय कारोबारियों ने मलेशिया से तेल का आयात करना बंद कर दिया है जिससे उसे काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

अजीत डोभाल ने सुरक्षा एजेंसियों को आतंकवाद से लड़ने के लिए तौर-तरीकों में बदलाव करने का सुझाव देते हुए पाकिस्तान पर हमला बोला। उन्होंने पाकिस्तान को आतंकियों को समर्थन देने वाला राष्ट्र बताते हुए कहा कि इस्लामाबाद को इसमें विशेषज्ञता हासिल है।

धारा 370 के खत्म होने के बाद से जम्मू-कश्मीर में लागू मोबाइल सेवा पर पाबंदी को आज दोपहर 12 बजे से हटा ली जाएंगी। बता दें कि पिछले 70 दिनों से ये रोक सुरक्षा के एहतियात के तौर पर लगाई गई थी।

मलेशिया ने संयुक्त राष्ट्र में जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाने के फैसले को गलत बताया था। अब भारत मेलिशिया के खिलाफ व्यापारिक कार्रवाई करने की तैयारी कर रहा है और इसके लिए सख्त संदेश भी भेज दिया गया है।