arvind kejriwal

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली विश्वविद्यालय और देश के अन्य केंद्रीय विश्वविद्यालयों के अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को रद्द करने का आग्रह किया।

केजरीवाल ने बताया कि जहां पिछले सप्ताह अस्पताल में लगभग 2300 नए मरीज़ थे।वहीं अब अस्पताल में मरीज़ों की संख्या 6200 से 5300 तक कम हुई है।

बैठक के दौरान अमित शाह ने आदेश दिया है कि दिल्ली-एनसीआर के जिलों में ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों की कोरोना जांच हो और रिपोर्ट के आधार पर इलाज सुनिश्चित हो।

दिल्ली में अभी तक सामने आए कोरोना पॉजिटिव मामलों में से 59,992 लोग स्वस्थ हुए हैं। फिलहाल राजधानी में 27,007 एक्टिव कोरोना रोगी हैं। एक्टिव कोरोना रोगियों में से 16,703 कोरोना पॉजिटिव लोगों का उपचार उनके घरों पर ही हो रहा है।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लगभग एक महीने पहले जब हमने दिल्ली में लॉकडाउन खोला था, तब बहुत तेजी से कोरोना के केस बढ़ने लगे थे। हमें तब उम्मीद थी कि केस बढ़ेंगे, मगर इतनी तेजी से बढ़ेंगे यह उम्मीद नहीं थी।

दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करने को लेकर शाह ने कहा कि हमने दिल्ली सरकार को तत्काल 500 ऑक्सीजन सिलेंडर, 440 वेंटिलेटर दिए हैं। एंबुलेंस के लिए दिल्ली सरकार को कहा है कि प्राइवेट कंपनियों के साथ मिलकर आप इनकी जरूरत पूरी कर सकते हैं।

छतरपुर इलाके में राधा स्वामी सत्संग व्यास के परिसर में बनाए गए इस केन्द्र में दो हिस्से होंगे। एक हिस्से में ऐसे रोगियों का इलाज किया जाएगा जिनमें लक्षण नहीं दिखाई दिये हैं जबकि दूसरे हिस्से में कोविड स्वास्थ्य देखभाल केन्द्र होगा।

दिल्ली सरकार कोरोना से बचाव के लिए 5 उपाय अपना रही है। इन 5 बचाव उपायों को दिल्ली सरकार ने कोरोना के खिलाफ पांच हथियार कहा है। दिल्ली सरकार के 5 हथियारों में, अस्पतालों में कोरोना बेड की संख्या बढ़ाना, टेस्टिंग और आइसोलेशन, ऑक्सीमीटर और ऑक्सीजन, प्लाज्मा थेरेपी एवं सर्वे और स्क्रीनिंग शामिल हैं।

कोरोना महामारी के चलते उपजे हालात में दिल्ली सरकार की तरफ से एक अहम फैसला लिया गया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसकी घोषणा की है।

दिल्ली में पिछले हफ्ते भर से ऐसा लग रहा है कोरोना का विस्फोट हो गया हो। हालत ये है कि राजधानी दिल्ली कोरोना केस में मुम्बई से आगे निकल गई है।