Ashok Gahlot

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भले ही दावा कर रहे हों कि सबको सम्मान देंगे जो हुआ वो इतिहास है, लेकिन उनके समर्थक विधायक अब भी पायलट पर निशाना साध रहे हैं।

पायलट की शिकायतों को दूर करने के लिए कांग्रेस ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी में प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल को रखा गया है।

सचिन पायलट के इस बयान को अशोक गहलोत से जोड़कर इसलिए देखा जा रहा है क्योंकि गहलोत का 'निकम्मा' वाला बयान काफी चर्चाओं में आया था।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को ही बयान दिया था कि जब से विधानसभा सत्र का ऐलान हुआ है, तभी से हॉर्स ट्रेडिंग तेज हो गई है।

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को ही रात कैबिनेट से इसका अनुमोदन करा लिया था मगर शनिवार दिनभर कानूनविदों से चर्चा की गई और उसके बाद सरकार ने प्रस्ताव भेजा है।

गहलोत राज्यपाल पर दबाव बनाने के लिए राजभवन पहुंच गए। यहां पर उन्होंने नारेबाजी और धरने पर बैठ गए। भूख लगी तो बिस्किट का आनंद लिया, लेकिन वहां से हटे नहीं।

राजस्थान में बने राजनीतिक संकट को लेकर मुख्यंमत्री अशोक गहलोत ने कहा कि, ऊपरी दबाव की वजह से राज्यपाल विधानसभा सत्र नहीं बुला रहे, हम सभी विधायकों संग राजभवन जा रहे हैं।

शुक्रवार को राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट और 18 विधायकों की विधानसभा सदस्यता को अयोग्‍य ठहराने को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई हुई।

सोमवार को अशोक गहलोत ने कहा कि उन्हें पता था कि सचिन पायलट निकम्मा है और नाकारा है, वह बीजेपी के साथ मिलकर सरकार गिराने की साजिश रच रहे थे।

सिर्फ फिल्म ही नहीं विधायकों को होटल में गेम खेलने का मौका भी मिला है और इसके बदले में उन्हें होटल की तरफ से गिफ्ट भी मिल रहे हैं। बतादें कि होटल में ठहरे नदबई विधायक जोगिन्दर सिंह अवाना ने होटल में हाउजी गेम जीता है।