Ashok Gahlot

जिस तरह ज्योतिरादित्य सिंधिया के संबंध लगातार बिगड़ रहे थे ठीक वैसे ही संबंध सचिन पायलट का भी राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ देखने को मिलता रहता है।

गहलोत ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए ये भी कहा कि सरकार हर बजट में बड़ी घोषणाएं कर रही है लेकिन हर बार उन घोषणाओं पर अमल नहीं हो पाता है इस बजट की बड़ी घोषणा को लेकर भी यही हालत होने वाली है।

राजस्थान के कोटा अस्पताल में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है। कोटा जिले के जेके लोन अस्पताल में दिसंबर के अंतिम दो दिन में कम से कम 8 और शिशुओं की मौत हो गई। इसके साथ ही इस महीने अस्पताल में मरने वाले शिशुओं की संख्या 100 हो गई है।

रखपुर में दिमागी बुखार और बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरनेवाले लोगों और बच्चों पर सियासत खूब देखने को मिली थी। लगातार ये दोनों खबरें मीडिया की सुर्खियां बनी रहीं। लेकिन राजस्थान के कोटा में 48 घंटे में 10 बच्चे की मौत और साल भर में हजार से ज्यादा बच्चों की मौत पर भी सब कुछ सामान्य नजर आ रहा है।

अगर मनमोहन सिंह राजस्थान से चुने जाते हैं, तो वह तीन अप्रैल, 2024 तक राज्यसभा सदस्य होंगे। कांग्रेस को राज्य विधानसभा में बहुमत प्राप्त है, जिससे मनमोहन सिंह के लिए उपचुनाव जीतना आसान है।

लोकसभा चुनाव में बड़ी शिकस्त मिलने के बाद कांग्रेस की मुश्किलें और बढ़ती जा रही हैं। खासकर राजस्थान सरकार को लेकर कांग्रेस में मतभेद गहराता जा रहा है। चूंकि लोकसभा चुनाव में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत भी चुनाव हार गए हैं। ऐसे में कांग्रेस नेताओं में मुख्यमंत्री गहलोत के लिए असंतोष सामने आ रहा है और सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग जोर पकड़ रही है।

कटारिया के इस्तीफे की पुष्टि के लिए उनसे फोन पर संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन वह उपलब्ध नहीं हो पाए। हालांकि शुक्रवा कटारिया ने पुष्टि की कि वह इस्तीफा सौंपने के बाद उत्तराखंड चले गए थे।

गहलोत ने ट्वीट किया, "नव निर्वाचित भाजपा सरकार के शपथ ग्रहण से पहले ही वे पश्चिम बंगाल, कर्नाटक व मध्य प्रदेश सहित विपक्षी पार्टियों की राज्य सरकारों को परेशान व गिराने की कोशिश कर रहे हैं।"

लोकसभा चुनाव 2019 में भारी पराजय के बाद कांग्रेस में मतभेद गहराता जा रहा है। कर्नाटक और राजस्थान की सरकारें डगमगाती दिख रही हैं। साथ ही ये भी बता दें कि पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़, झारखंड के अजय कुमार और असम के प्रदेश अध्यक्ष निपुन बोरा समेत पार्टी में अब तक कुल 13 इस्तीफे हो चुके हैं।

कांग्रेस दफ्तर में मीडिया से बातचीत में गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया और कहा कि ऐसी भाषा उनके पद को शोभा नहीं देती है।