AstraZeneca

Coronavirus: ब्राजील (Brazil) के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो (jair bolsonaro) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक आग्रह पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से मांग की है कि जल्द से जल्द ब्राजील को AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन मुहैया कराई जाए ताकि उनके देश में भी कोरोना टीकाकरण की प्रक्रिया को तेज किया जा सके।

Corona Vaccine Update: खबरों के मुताबिक, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) केंद्र सरकार को 250 रुपये प्रति डोज के हिसाब से वैक्सीन मुहैया करा सकता है।

Coronavirus Vaccine: देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। हर रोज हजारों लोग इस संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं और अपनी जान गंवा रहे हैं। हालांकि कोरोना की वैक्सीन को तैयार करने की भी कोशिशें लगातार जारी हैं।

रूस ने इस मामले में सबसे पहले अपने टीके का ऐलान कर दिया तो वहीं अब रूस की मानें तो जल्द ही वह कोविड-19 (COVID-19) महामारी से बचाव के लिए दूसरा टीका भी लॉन्च करनेवाला है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोरोना वायरस वैक्सीन के 10 करोड़ खुराक के उत्पादन के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और गावी से भी करार किया है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा है कि वह एस्ट्राजेनेका के साथ अरेंजमेंट के चलते अगले एक साल में कोविशील्ड वैक्सीन की एक बिलियन खुराक बना लेंगे।

दुनियाभर में इस वक्त कोरोना वैक्सीन के तकरीबन 140 प्रोजेक्ट चल रहे हैं। इनमें कई वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल शुरू हो चुके हैं।

दुनिया में कोरोनावायरस के बढ़ते कहर के बीच कोरोना वैक्सीन तैयार होने की खबर ने पूरी दुनिया को राहत दी है। अब हर किसी को यही इंतजार है कि ये वैक्सीन लोगों को कब तक मिलेंगे।

कोरोना महामारी के प्रसार के साथ पूरी दुनिया कोरोना वैक्सीन को बनाने में जुटी है। दुनिया के 140 कैंडिडेट वैक्सीन पर रिसर्च किया जा रहा है।

कोरोना प्रकोप के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक राहत की खबर दी है। डब्ल्यूएचओ ने शुक्रवार को कहा कि एक साल के अंदर कोरोना की वैक्सीन आ सकती है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक यूके स्थित एस्ट्राजेनेका कंपनी वैक्सीन की दौड़ में आगे है।