Australia

Indian Cricket Team: टीम इंडिया के उपकप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) फिट ना होने के कारण अभी टीम से बाहर हैं। उन पर नजरे जमीं रहेंगी। ऐसे में उनकी जगह के. एल. राहुल (KL Rahul) को टीम का उपकप्तान बनाया गया है।

China-India : भारत(India) के साथ रिश्तों को और मजबूत करने के लिए रेनॉल्ड्स ने कहा कि हाल ही में हिंद महासागर(Hind Mahasagar) में किए गए नौसेना(Navy) के संयुक्त अभ्यास व्यापक रणनीतिक भागीदारी के रूप में दोनों देशों के मजबूत संबंधों को दर्शाते हैं।

Election Comission of India: इस वेबिनार (Webinar) में कोविड-19 (Covid-19) के दौरान लोकतांत्रिक देशों द्वारा चुनाव (Election) कराने में समस्याओं एवं चुनौतियों पर विस्तृत चर्चा की गई तथा इसका सर्वमान्य एवं सुरक्षित समाधान निकालने पर विचार-विमर्श किया गया।

India-China Border Dispute : दक्षिण चीन सागर पर अपना पूरा दावा करता है, लेकिन इसके उलट ताइवान, फिलीपींस, ब्रुनेई, मलेशिया और वियतनाम इसके कुछ हिस्सों का दावा करते हैं।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने गुरुवार को बताया कि एप्पल (Apple) की आठ कंपनियां चीन को छोड़कर भारत (India) में आ चुकी हैं। प्रसाद ने बताया कि भारत उत्पादन का हब बन रहा है।

ऑस्ट्रेलियाई सरकार (Australian Government) और गूगल (Google) के बीच तनाव बना हुआ है। ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने जब से गूगल से ये कहा है कि उसे समाचार सामग्री का इस्तेमाल करने के लिए स्थानीय मीडिया संगठनों को पैसे का भुगतान करना चाहिए।

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश भारत आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस (India Independence Day) मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इस अवसर पर ऐतिहासिक लाल किले (Red Fort) की प्राचीर से लगातार 7वीं बार ध्वजारोहण किया और राष्ट्र को संबोधित किया।

आस्ट्रेलिया (Australia) के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क (Mitchell Starc) को उम्मीद है कि उन्होंने जो समय जिम में बिताया है और कोविड-19 के कारण मिले ब्रेक के कारण उन्हें जो वक्त मिला है वो उनको भारत के खिलाफ होने वाली टेस्ट सीरीज में लंबे स्पैल डालने में मदद करेगा।

ऑस्ट्रेलिया ने चीन के खिलाफ एक बड़ी चाल चली है, जिससे चीन परेशान हो गया है। ऑस्ट्रेलिया ने शुक्रवार की रात संयुक्त राष्ट्र में एक घोषणा पत्र देकर कहा है कि दक्षिण चीन सागर के दो विवादित आइलैंड, चीन का क्षेत्र का नहीं है।

ऑस्ट्रेलिया में कुछ राजनेता चीन का विरोध करने में मुखर हो गये हैं। रिपोर्ट है कि सन 1990 के दशक में निर्मित चीनी दूतावास के भवन में बड़ी मात्रा में श्रवण-यंत्र रखे हुए हैं। अब यह स्पष्ट है कि ऑस्ट्रेलिया एक तरफ चीन को चेतावनी देकर सनसनी फैला रहा है, दूसरी तरफ चीन की जानकारी और डेटा चोरी कर रहा है।