Auto Sector

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) गुरुग्राम से अपना प्लांट(Gurugram Plant) हटाएगी। कंपनी अब गुरुग्राम से बाहर शिफ्ट होगी।

कोरोना वायरस और लॉकडाउन का बुरा असर ऑटो सेक्टर पर पड़ा। भले ही ऑटो सेक्टर को इससे भारी नुकसान हुआ हो, लेकिन राहत की बात ये है कि लॉकडाउन के बाद पुरानी गाड़ियों की बिक्री में भारी बढ़ोतरी देखी जा रही है।

ऑटो सेक्टर 2018 से मंदी की मार झेल रहा है, जब से लॉकडाउन हुआ है तब से और भी ज्यादा बुरे दौर से गुजर रहा है। इस समय सबसे ज्यादा घाटे में ऑटो सेक्टर चल रहा है।

जापान की ऑटोमोबाइल कंपनी निसान मोटर्स सब कॉम्पैक्ट सेगमेंट में कड़ी चुनौती पेश करने की तैयारी कर रही है। निशान की कोशिश है कि इस सेगमेंट की बादशाह Maruti Vitara Brezza और Hyundai Venue को पछाड़ा जाए। इसको ध्यान में रखते हुए निसान जल्द ही भारतीय बाजार में अपनी छोटी एसयूवी लाने जा रही है। निसान ने अपनी इस कार के कुछ टीजर भी जारी किए हैं। वहीं आपको बता दें इस कार का नाम रखा जा सकता है Nissan Magnite! 

हुंडई अपनी कार क्रेटा को अगले हफ्ते यानि की 17 मार्च को लॉन्च करने जा रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो इस कार का 7 सीटर वर्जन लाने की तैयारी हो रही है। माना जा रहा है कि साल 2021 में इसे लॉन्च किया जा सकता है।

दुनिया भर में जारी आर्थिक मंदी के बीच भारत में भी इसका असर सीधे तौर पर देखने को मिल रहा है। भारतीय बाजार में ऑटो सेक्टर की हालत इस आर्थिक मंदी में सबसे ज्यादा खराब है।

घरेलू ऑटोमोबाइल की बिक्री में लगातार गिरावट का रुख बना हुआ है और नवंबर में ऑटो सेक्टर की कुल बिक्री में वार्षिक आधार पर 12.05 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।

ऑटो सेक्टर के लिए सितंबर का महीना भी बिक्री के लिहाज से निगेटिव रहा है। सितंबर में मारुति सुजुकी की बिक्री में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है।

इस जीएसटी काउंसिल की बैठक में ऑटोमोबाइल, बिस्किट, माचिस, आउटडोर कैटरिंग सेगमेंट के GST रेट में बदलाव की बात एजेंडे में रखी गई है। खबरों की मानें तो सबसे ज्यादा राहत की उम्मीद होटल इंडस्ट्री को मिलने की है।

पिछले साल ऑरगदम औद्योगिक क्षेत्र में बड़े पैमाने पर श्रमिक आन्दोलन के बाद, आईवाईएम प्रबंधन ने कर्मचारियों के साथ बेहतर संवाद करने के लिए कई कदम उठाए और उनकी चिंताओं को समझने के लिए उनके साथ नियमित संवाद सुनिश्चित किया।