ayodhya

सोमवार को श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष और मणिराम दास छावनी के महंत नृत्य गोपाल दास ने सुबह 10 बजे यहां 28 साल बाद रामलला के दर्शन और पूजन किया।

हिंदू महासभा के वकील विष्णु जैन ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट में बहस के दौरान हम पर मुस्लिम पक्ष ने हिंदू तालिबान का आरोप लगाया था और कहा था कि वहां पर मंदिर के कोई अवशेष नहीं है। पुरातात्विक मूर्तियां का मिलना यह उन आरोपों का जवाब है, जो हम सुप्रीम कोर्ट में बहस करते चले आ रहे थे।'

अयोध्या के राम जन्मभूमि में समतलीकरण के दौरान मंदिर के अवशेष मिले है। खुदाई में मंदिर के मूर्ति युक्त पाषाण के खंभे मिले। इसके अलावा समतलीकरण के दौरान प्राचीन कुंआ मंदिर के चौखट भी मिले। लॉकडाउन का पालन करते हुए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट गृभगृह में जेसीबी से समतलीकरण करा रहा है।

अयोध्या से जुड़ी कई पुरातात्विक खोजें आजतक हुई हैं मगर इस बार अयोध्या रामलला राम जन्मभूमि में समतलीकरण के दौरान कुछ ऐसे अवशेष मिले हैं जो वाकई अभूतपूर्व हैं।

विधायक ने कहा, "हम इस कठिन समय में अपने मुस्लिम भाइयों के साथ हैं और हम चाहते हैं कि वे सुरक्षा प्रोटोकॉल और लॉकडाउन नियमों को ध्यान में रखते हुए अपना त्योहार मनाएं।"

डॉ. मिश्रा ने बताया, "इसको लेकर सिक्योरिटी एजेंसी से भी संपर्क किया जा रहा है जो मंदिर के नाम पर साइबर अपराध करने वालों की निगरानी करेगी। सहमति बनने पर इसे जल्द ही लॉन्च किया जाएगा।"

रामलला के ऑनलाइन दर्शन की हर तरफ से मांग उठ रही है। ट्रस्ट तक भी यह बातें पहुंच रही हैं। इसे लेकर मंथन हो रहा है। लेकिन अभी इसे लेकर संशय है। ट्रस्ट का मानना है कि उसके पास जो भी पैसा है वह मंदिर निर्माण के लिए है।

रामलला का नया सिंहासन साढ़े नौ किलो चांदी से बनवाकर अयोध्या राज परिवार के मुखिया विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को समर्पित कर दिया है।

रामलला का सिंहासन भी तैयार हो चुका है। इस सिंहासन की पहली तस्वीर सामने आ चुकी है। इस अस्थाई मंदिर में स्थापना की खातिर तीन दिवसीय अनुष्ठान शुरू हो रहा है, जिसमें 15 आचार्य हिस्सा लेंगे। अस्थायी मंदिर का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है।

अयोध्या में रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की प्रक्रिया में होली के बाद तेजी देखने को मिलेगी। मंदिर निर्माण के लिए बने ट्रस्ट का काम-काज प्रभावित न हो इसके लिए अधिग्रहीत परिसर से लगे रामकचहरी मंदिर के एक प्रखंड में कार्यालय खोला जा रहा है, जिसे होली बाद किसी भी दिन शुभ मुहुर्त देखकर संचालित किया जाएगा।