bahujan samaj party

मायावती का सबसे बड़ा फोकस अपने दलित वोट बैंक को वापिस खींचना है। वे अब खांटी दलित राजनीति की दिशा में लौटने की कवायद में हैं।

अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ यहां से चुनाव लड़ेंगी। विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक, पूनम सिन्हा समाजवादी पार्टी के टिकट पर बहुजन समाज पार्टी के समर्थन से इस सीट से चुनाव लड़ेंगी। कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि पार्टी ने लखनऊ से किसी भी उम्मीदवार को नहीं उतारने और सिन्हा को समर्थन देने का निर्णय लिया है।

शीर्ष पद के लिए उनकी दावेदारी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "जहां तक मेरे प्रधानमंत्री बनने का सवाल है तो चुनाव अभी चल रहा है। जब नतीजे आएंगे, तब स्थिति साफ हो जाएगी।"

इस लिस्ट में जिन्हें टिकट दिया गया है उनमें शाहजहांपुर से अमर चंद्र जौहर, अकबरपुर से निशा सचान का नाम शामिल है। इनके अलावा मिश्रिख से नीलू सत्यार्थी, फर्रूखाबाद से मनोज अग्रवाल, जालौन से पंकज सिंह और हमीरपुर से दिलीप कुमार सिंह को टिकट दिया गया है।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने शुक्रवार को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 20 स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है। बसपा प्रमुख ने अपने भतीजे आकाश आनंद को भी स्टार प्रचारक बनाया है। आकाश युवा चेहरा हैं और वे पार्टी से नौजवानों को जोड़ने का काम करेंगे।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा)  सुप्रीमो मायावती ने ऐलान किया है कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि अभी मेरे जीतने से ज्यादा गठबंधन की सफलता ज्यादा जरूरी है।

2007 से 2012 के बीच बसपा शासनकाल के दौरान नेतराम प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री के तौर पर तैनात थे और ताकतवर अफसरों में उनकी गिनती होती थी। बताया जाता है कि कैबिनेट मंत्रियों को भी नेतराम से मिलने के लिए मुख्यमंत्री से मिलने की तरह समय लेना पड़ता था।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के बलिया जिला की रसड़ा विधानसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी के विधायक उमाशंकर सिंह को...

लखनऊ। समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर विस्तृत चर्चा हुई। पार्टी...

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधान परिषद चुनाव से ठीक पहले सपा-बसपा गठबंधन को तगड़ा झटका लगा है। जिसके बाद सूबे...