Bharatiya Kisan Union

Farmers Protest: राकेश टिकैत के इस दावे के बाद से लोग भाजपा के उस सांसद के नाम को लेकर अटकलें लगाना शुरू कर चुके हैं। लोग तो यह तक मानने लगे हैं कि पश्चिमी यूपी का कोई सांसद किसानों के समर्थन में अपने पद से इस्तीफा दे सकता है। लेकिन वहीं कुछ लोग यह मानने लगे हैं कि यह शुरुआत पंजाब या हरियाणा से हो सकती है।

Farmers Protest: संयुक्त किसान मोर्चा के 7 सदस्यीय कमेटी में गुरनाम सिंह चढूनी (Gurnam Singh Chadhuni) भी शामिल थे। जिन्हें कमेटी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। गुरनाम सिंह चढूनी ने इस कार्रवाई पर जमकर अपनी प्रतिक्रिया दी और कहा कि कहा कि कुछ लोग उनके बढ़ते कद से ज्यादा असहज महसूस करते हैं। चढूनी की तरफ से ये भी कहा गया कि इसी को देखते हुए उनके खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई की गई है। चढूनी ने कहा कि ये पूरी संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से आरोप नहीं है यह केवल शिवकुमार सिंह कक्का के आरोप हैं जो खुद आरएसएस के एजेंट हैं। वही फूट डालो राज करो की राजनीति कर रहे हैं।

Bharat Bandh: केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसान संगठनों का विरोध प्रदर्शन (Farmers Protest) मंगलवार को भी जारी है।इसी के मद्देनजर किसानों ने विरोध में आज भारत बंद कर दिया है। वहीं किसानों के बंद को कांग्रेस समेत सभी बड़ी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया है।

Agriculture Bill: कृषि बिल को लेकर एक तरफ तो विरोध प्रदर्शन जारी है वहीं उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) इस बिल को लेकर किसान संगठनों से और उनके नेताओं से मिलकर इस बिल के फायदे के बारे में अवगत करा रहे हैं साथ ही इस बात को लेकर भी आश्वस्त कर रहे हैं कि किसानों के साथ हमेशा नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार और योगी आदित्यनाथ की सरकार खड़ी है।

Agriculture Bill: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि मूल्य समर्थन योजना (एमएसपी (MSP) के अन्तर्गत खरीद जारी रहेगी। इसमें किसी को भी किसी भी प्रकार का कोई संशय नहीं होना चाहिए। प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में एमएसपी के तहत धान की खरीद 1 अक्टूबर, 2020 से प्रारम्भ हो जाएगी। इसके लिए 3,000 क्रय केन्द्र स्थापित किये जाएंगे।

नई दिल्ली। किसानों का आंदोलन और भी उग्र हो गया है। दिल्ली मार्च पर उतारू किसानों और पुलिस के बीच दिल्ली...