BJP Chief JP Nadda

LAHDC elections: बता दें कि अनुच्छेद 370(Article 370) हटने और केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद लद्दाख में पहली हुए चुनाव में भाजपा ने धमाकेदार जीत दर्ज की है। इस जीत से भाजपा(BJP) बेहद उत्साहित है।

Ladakh: भाजपा (BJP) की लद्दाख (Ladakh) में हुई इस बंपर जीत पर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बधाई दी। नड्डा ने ट्वीट किया कि लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद में भाजपा की जीत, लेह चुनाव ऐतिहासिक है; 26 में से 15 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की है।

Bihar Election 2020 : बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में पहले चरण का नामांकन खत्म होने के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) अब धारदार कैंपेनिंग की शुरूआत करने जा रहे हैं। वह गया के ऐतिहासिक गांधी मैदान (Gandhi Maidan) में जनसभा को संबोधित कर कैंपेनिंग का आगाज करेंगे।

Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election 2020) से पहले शनिवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने संगठन में कई बड़े बदलाव किए हैं। भाजपा की ओर से पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, राष्ट्रीय महामंत्री, राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) और राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता समेत कई अहम पदों में बदलाव करते हुए नए चेहरों को भी मौका दिया है।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने सोमवार को झारखंड प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में कार्यकतार्ओं को पार्टी के लक्ष्यों और सिद्धांतों की जानकारी दी।

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की तैयारियों में जुटी भाजपा (BJP) लगातार बैठक कर रही हैं। पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने इस सिलसिले में 29 अगस्त को पार्टी मुख्यालय में एक अहम बैठक बुलाई है, जिसमें चुनावी रणनीति पर विचार-विमर्श होगा।

जेपी नड्डा ने सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा,"चीन सरकार के साथ कांग्रेस पार्टी द्वारा साइन किए गए एमओयू पर सुप्रीम कोर्ट भी हैरान है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, "आज 11 करोड़ से बढ़कर पार्टी के पास 18 करोड़ सदस्य हो गए हैं। इनको कैसे कार्यकर्ता बनाएं, व्हाट्सअप ग्रुप बनाकर कैसे कंटेंट दिया जाए, इसकी चिंता कर सकते हैं।"

जेपी नड्डा ने कहा, 'हमने आज एक बार फिर 'आरजी रिलॉन्च प्रोजेक्ट' का विफल संस्करण देखा। राहुल गांधी जी, हमेशा की तरह, तथ्यों पर कमजोर और बदनामी करने पर मजबूत थे। रक्षा और विदेश नीति के मामलों का राजनीतिकरण करने का प्रयास 1962 के अपने पिछले पापों को धोने और भारत को कमजोर करने के लिए एक राजवंश की हताशा को दर्शाता है।'

उन्होंने फोन कर बारी की हत्या के बारे में जानकारी ली। साथ ही परिवार के प्रति सांत्वना भी व्यक्त की। केंद्रीय मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी ट्विटर के जरिए दी है।