Business

पिछले साल की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 1,215 करोड़ रुपये रहा था। कंपनी ऑप्टिकल फाइबर केबल सहित दूरसंचार नेटवर्क से जुड़े उपकरण बनाती है।

डीजल के दाम में मंगलवार को लगातार दूसरे दिन गिरावट दर्ज की गई और पेट्रोल के दाम में भी उपभोक्ताओं को थोड़ी राहत मिली। तेल विपणन कंपनियों ने फिर डीजल के दाम दिल्ली में 10 पैसे, कोलकाता में छह पैसे, जबकि मुंबई और चेन्नई में 11 पैसे प्रति लीटर घटा दिए हैं।

वित्तमंत्री ने पिछले सप्ताह आम बजट पेश करते हुए अत्यधिक दौलतमंद पर अधिक सरचार्ज की घोषणा की। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के केंद्रीय बोर्ड की यहां बैठक के बाद वित्तमंत्री ने कहा, "मुझे नहीं लगता है कि इस समय इस पर कोई सफाई देने की जरूरत है।" वहां आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास भी मौजूद थे।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स दोपहर 13.28 बजे 414.38 अंकों यानी 1.04 फीसदी की गिरावट के साथ 39,493.68 पर कारोबार कर रहा था। इससे पहले सेंसेक्स 39,481.01 तक लुढ़का जबकि सेंसेक्स सुबह मजबूती के साथ 39,990.40 पर खुला और 40,032.41 तक उछला। 

प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 82.34 अंकों की तेजी के साथ 39,990.40 पर जबकि निफ्टी 18 अंकों की मजबूती के साथ 11,964.75 पर खुला।

उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव में बीते सत्र में आई भारी गिरावट के बाद रिकवरी आई है। ब्रेंट क्रूड के दाम में मंगलवार को तीन फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई थी।

फिलहाल इस्तीफे के कारणों का पता नहीं चल सका है। आचार्य ने रिजर्व बैंक में डिप्‍टी गवर्नर के रूप में 23 जनवरी 2017 को ज्‍वाइन किया था और वह लगभग 30 महीने तक इस पद पर बने रहे। 

भारतीय मुद्रा रुपये में भी डॉलर के मुकाबले कमजोरी रही। डॉलर के मुकाबले रुपया 25 पैसे की कमजोरी के साथ 69.69 रुपये प्रति डॉलर पर बना हुआ था। इससे पहले रुपया पिछले सत्र से 31 पैसे की कमजोरी के साथ 69.75 पर खुला था। 

कम्पनी के मुताबिक यह वृद्धि समस्त उत्पाद सेगमेंट्स एवं सभी वितरण चैनलों में हुई। इसने 31 मार्च, 2019 को समाप्त हुए वित्तवर्ष में संपूर्ण औद्योगिक वृद्धि के मुकाबले 12.9 प्रतिशत की बेहतरीन वृद्धि तथा 25 प्रतिशत की प्राईवेट सेक्टर की वृद्धि दर्ज की।

मई में तेल का आयात कुल 12.44 अरब डॉलर का रहा, जोकि डॉलर के संदर्भ में 2018 के मई की तुलना में 8.23 फीसदी अधिक है। पिछले साल मई में कुल 11.50 अरब डॉलर के तेल का आयात किया गया था।