CAA

जिन 7 लोगों की मौत हो चुकी है, उसमें हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल भी शामिल हैं। इसके अलावा 100 से ज्यादा लोग घायल हैं। गौरतलब है कि मंगलवार सुबह भी हालात तनावपूर्ण है।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर दिल्ली के कई इलाकों में भड़की हिंसा के तार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से जुड़ते दिख रहे हैं।

दिल्ली के जाफराबाद में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ धरने पर बैठे लोग हिंसक हो गए। पुलिस पर पथराव के बाद प्रदर्शनकारियों ने जाफराबाद में दस गाड़ियों में भी आग लगा दी।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में दिल्लीत ही नहीं देश भर में प्रदर्शन चल रहा है।

राजधानी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में बवाल शुरू होने के बाद उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भी माहौल एक बार फिर से तनावपूर्ण हो गया है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त किए गए वार्ताकारों में से एक वजाहत हबीबुल्ला ने शाहीन बाग में सड़क अवरोध पर एक हलफनामा दायर किया है। उन्होंने हलफनामे में कहा कि पुलिस ने शाहीन बाग के आसपास पांच रास्तों को बंद कर रखा है।

शाहीन बाग में एक तरफ का रोड खुले अभी एक दिन भी नहीं बीता कि अब नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में भी शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं। यहां जाफराबाद के बाद चांदबाग में सड़क को जाम कर दिया गया है।

प्रदर्शनकारियों के इकट्ठा होने व उनके सड़क पर बैठने की वजह से इस रास्ते से लोगों की आवाजाही बंद हो गई है। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने रोड नंबर 66 जाम कर रखा है, ये सड़क सीलमपुर को मौजपुर और यमुना विहार से जोड़ती है।

गठबंधन सहयोगियों के बीच मतभेद की खबरों पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि, "सहयोगियों के साथ कोई मतभेद नहीं, हम महाराष्ट्र सरकार पांच साल तक चलाने वाले हैं।"

आयोजकों ने तुरंत पुलिस को बुलाया। पुलिस ने प्रदर्शनकारी लड़की को हिरासत में ले लिया और थाने ले गई। प्रदर्शनकारी लड़की की पहचान अमूल्य के रूप में हुई है।