Citizenship Amendment Act

सफूरा जरगर गर्भवती हैं और अदालत ने उन्हें मानवीय आधार पर जमानत दी है। इसको आधार बनाकर केंद्र सरकार ने भी उसकी जमानत का समर्थन किया।

ये भी जानना ज़रूरी है की ये दंगे किन इलाक़ों में हुए। ये सभी इलाक़े मुस्लिम बहुल क्षेत्र हैं जिसकी पुष्टि 2011 की जनसंख्या रिपोर्ट से होती है जो ये बताती है की उत्तर पूर्वी दिल्ली के इन इलाक़ों में क़रीब 30 फ़ीसदी मुस्लिम आबादी है।

लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन की साजिश रचने के आरोप में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। अमेरिका की तर्ज पर राजधानी लखनऊ में युवक पर साजिश रचने का आरोप है।

सरकार के गठन के बाद जिस तरह से ताबड़तोड़ फैसले लिए गए उसने एक साल के मोदी सरकार 2.0 के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और ऊंचा कर दिया।

दिल्ली पुलिस ने पिंजरा तोड़ संगठन से जुड़ी दो लड़कियां नताशा और देवांगना को गिरफ्तार किया है। दरअसल, जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर सीएए के खिलाफ महिलाओं की अचानक भीड़ जुट गई थी, जिसके बाद हिंसा हुई थी।

नरेंद्र मोदी 2.0 के गठन के बाद से गरीब, महिला, किसान, युवा, उद्योग और इंफ्रास्ट्रक्चर को सीधा फायदा पहुंचाया जा रहा हैं।

कोरोना के इस संकट काल के बीच भी कराए गए सर्वे की मानें तो पीएम नरेंद्र मोदी के ऊपर 71 प्रतिशत से ज्यादा देश की जनता का भरोसा कायम है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में प्रदर्शन करने वालों को सोमवार को कोरोनावायरस से भी खतरनाक बताया है।

ताहिर हुसैन के साथ काम करने वाले बाप बेटे का दिल्ली दंगों में बड़ा रोल सामने आया है। रियासत अली और लियाकत अली नाम के इन दोनों बाप बेटों पर आरोप है कि चांद बाग में हिंसा के दौरान ये दोनों ताहिर हुसैन की छत पर मौजूद थे।

कपिल मिश्रा को लेकर एक फेक न्यूज एनडीटीवी की तरफ से प्रसारित किया गया जिसके बाद चैनल को इस पूरे प्रकरण पर सोशल मीडिया पर सफाई देनी पड़ी।