CM Uddhav Thackeray

पूरे देश में कोरोनावायरस की वजह राष्ट्रीय स्तर के बंद जैसा माहौल है। लेकिन इसके बावजूद भी महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले लगातार तेजी से बढ़ते जा रहे हैं।

हाल ही में महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के हालात को समझने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर बातचीत की है और हालात का जायजा लिया है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे को रविवार को 'सामना' समूह का नया संपादक नियुक्त किया गया है। प्रबोधन प्रकाशन द्वारा संचालित समूह में प्रमुख रूप से दैनिक समाचार पत्र 'सामना' और 'दोपहर का सामना' हैं जिन्हें शिवसेना का आधिकारिक प्रकाशन माना गया है।

सामना में जिन्ना का भी ज़िक्र किया गया, "गांधी जी अंग्रेजों के एजेंट थे। गांधी का स्वतंत्रता आंदोलन प्रायोजित था, ऐसा भाजपाई सांसद अनंत कुमार हेगड़े कहते हैं। ऐसा जो कहते हैं, उन्हें पाकिस्तान में व्याप्त अराजकता को देखना चाहिए। वहां बैरिस्टर जिन्ना सुखी और यहां गांधी बदनाम हैं, ऐसा दौर चल रहा है!"

ऐसे कई मौके आए हैं जब शिवसेना के हिंदुत्व को लेकर सवाल उठे हैं। दरअसल महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाने के बाद उद्धव ठाकरे को कई मौकों पर झुकना पड़ा है।

दरअसल शिवसेना अपने गठबंधन के चक्कर में फंस चुकी है। गठबंधन में शामिल कांग्रेस और एनसीपी जैसे दल सेकुलरिज्म के नाम पर हिंदू धर्म के प्रतीकों से दूरी बनाते आए हैं।

उद्धव ठाकरे ने अपने मुखपत्र सामना में राज ठाकरे और उनकी राजनीति को लेकर तंज कसा और उनके द्वारा पार्टी का झंडा और नारा बदलने पर सवाल भी उठाया।

उद्धव के इस बयान का असर ऐसा है कि उनकी अपील के बाद भी शिरडी ग्राम सभा ने रविवार को बंद करने का फैसला किया है। विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि साईं बाबा ने अपने जन्म और धर्म जिक्र कभी नहीं किया और न ही साईं चरित्र में इसके बारे में कुछ लिखा हुआ है।

शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार के एक ऐलान की वजह से विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल महाराष्ट्र सरकार ने परभणी के समीप स्थित पाथरी गांव को साई की जन्मस्थली बताया है। जिसे लेकर शिरडी के लोगों में काफी गुस्सा है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को देश के सबसे लंबे समुद्री पुल मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक (एमटीएचएल) के पहले चरण को लॉन्च किया। अधिकारियों ने बताया कि ठाकरे ने पुल के पहले गाटर (शहतीर) को रखा, जोकि एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।