CM Yogi Adityanath

उत्तर प्रदेश के करीब 7,500 छात्र कोटा शहर के विभिन्न कोचिंग संस्थानों में मेडिकल और इंजीनियरिंग की कोचिंग कर रहे थे और कोरोना महामारी के कारण छात्रावास और गेस्ट हाउस में फंसे हुए थे। ये छात्र अपने अपने घरों को जाने के लिये काफी परेशान थे और सोशल मीडिया पर लगातार अपील कर रहे थे।

यूपी पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त धाराओं में कार्यवाही करे। इन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाकर इनकी गिरफ्तारी की जाए। इस दौरान संपत्ति का नुकसान करने वालों से इसकी वसूली भी की जाएगी।

एक तरफ योगी ने जहां प्रदेश में लॉकडाउन को सफलता पूर्वक लागू करवाने एवं गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की अध्यक्षता 11 कमेटियों का गठन किया।

इसके साथ ही सरकार ने यूपी के हर जिले से सैंपल मंगाना शुरू कर दिया है। हर जिले में 20 सैंपल रोज मंगाए जा रहे हैं। हॉटस्पॉट में यह संख्या 150 से 200 सैंपल की है। यूपी में अभी तक करीब 25 सौ सैंपल की जांच की जा चुकी है।

यूपी में किसानों को 1925 रु  प्रति क्विंटल भुगतान किया जाएगा क्विटल भुगतान किया जाएगा। किसान उत्पादक संगठन अपनी उपज सीधे बाजारों में भी बेच सकते है ।

कोरोनावायरस के कहर से पूरी दुनिया त्रस्त है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 योद्धाओं को इसको मात देने के लिए मैदान में उतारा है। यह टीम सबसे बड़े आबादी वाले राज्य को संक्रमण से बचाने और लॉकडाउन के कारण हो रही समस्या से निपटने के लिए हर दिन मुख्यमंत्री के साथ मंथन करती है। इस टीम में 11 आईएएस अधिकारी हैं, सभी एक-एक कमिटी को लीड कर रहे हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज प्रदेश के बड़े अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और 4 लाख से ज्यादा शहरी वेंडर्स आर्थिक मदद भी ट्रांसफर की। इसके साथ ही 11 लाख से ज्यादा श्रमिकों को 1-1 हजार रुपये की राशि की मदद की गई है। ये सहायता राशि श्रमिकों के खाते में ट्रांसफर की गई है।

उन्होंने इसके साथ ही डोर स्टेप डिलीवरी टीमों के आवागमन पर भी बात की। सीएम ने कहा कि सील किए गए इलाकों के निवासियों को आवश्यक चीजे मुहैया कराने के लिए डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था को और प्रभावी बनाया जाए।

लॉकडाउन में यूपी पुलिस की भूमिका की काफी तारीफ हो रही है। पुलिस के जवान अलग अलग जगहों पर लोगों की मदद करते हुए दिखाई दे रहे हैं। प्रयागराज में जोन कार्यालय में यूपी पुलिस की महिला व पुरुष कर्मी जरूरतमंदों में बांटने के लिए खुद से खाना बना रहे हैं। वे इसे खुद ही पैक करते और वितरित भी करते हैं।

इन 15 जिलों के हॉट स्पॉट में कंप्लीट लॉकडाउन का मतलब बेहद ही सख्त है। इन हॉट स्पॉट में लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाएगा। जरूरी सामग्री उनके घर पर ही मुहैय्या कराई जाएगी। लोग घरेलू सामान और दवाइयों का ऑन लाइन आर्डर कर सकते हैं। सरकार ऐसे कॉल सेंटर बनाएगी जहां लोग जरूरी सामग्री के लिए  फोन कर सकेंगे।