corona vaccine

कोरोना के प्रकोप के बीच हर किसी की नजरें कोरोना की वैक्सीन और दवा पर टिकी हैं। ऐसे में अध्ययन में खुलासा हुआ है कि शराब छुड़ाने वाली दवा कोरोनावायरस से लड़ने में मददगार है।

ट्रंप ने नवंबर तक वैक्सीन आने की संभावना को लेकर कहा कि, मुझे लगता है कुछ मामलों में यह संभव है। उन्होंने आगे कहा, ‘वैक्सीन साल के अंत से काफी पहले ही तैयार हो जाएगी।’

दुनिया भर में कोरोनावायरस ने कहर मचा रखा है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि दुनियाभर में 6 वैक्सीन का काम तीसरे पेज में पहुंच गया है।

पूरी दुनिया में कोरोना महामारी का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। इन सबके बीच अब सभी की निगाहें विभिन्न देशों में चल रहे कोरोना वैक्सीन के ट्रायल पर टिकी हैं। दुनियाभर के वैज्ञानिक हर संभव कोशिश कर कोरोना वैक्सीन खोजने में जुटे हुए हैं।

दुनियाभर में कोरोना के कहर के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक और चेतावनी जारी की है। जिसके मुताबिक जरूरी नहीं कि एक वैक्सीन से कोरोना खत्म हो जाए।

रूस ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है। जिसमें कहा गया है कि वह देश में अक्टूबर से ही मास वैक्सीनेशन का कार्यक्रम शुरू करने वाला है। इसके तहत सबसे पहले डॉक्टर्स और टीचर्स को वैक्सीन दी जाएगी, इसके बाद इमरजेंसी सर्विसेज से जुड़े लोगों का नंबर आएगा।

भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित कोरोना के वैक्सीन के तीसरे चरण के मानव परीक्षण के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को मंजूरी दे दी है।

दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप देखने को मिल रहा है। ऐसे में पुणे में स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के चीफ एग्जिक्यूटिव अदार पूनावाला ने सबसे पहले और बड़ी तादाद में वैक्सीन तैयार करने का दावा किया है।

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस महामारी का कहर झेल रही है। ऐसे में रूस इस महीने यानि अगस्त में कोरोना वायरस की वैक्सीन को मंजूरी दे सकता है।

चीन जो कि हमेशा से कई देशों की सुरक्षा में सेंध लगाने का काम करता आया है उसने एक बार फिर एक नापाक हरकत की है। चीनी सरकार के हैकर्स ने कोरोना वैक्सीन से जुड़ी खुफिया जानकारी चुराने की कोशिश की है।