Court

दिल्ली की एक अदालत ने फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा से संबंधित एक मामले में एक आरोपी अरमान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

सुनंदा पुष्क र मौत मामले में दिल्ली के राउज एवेन्यूि कोर्ट ने कांग्रेस नेता शशि थरूर को राहत प्रदान करते हुए चार महीने के लिए चुनिंदा देशों की यात्रा की अनुमति दी है।

1 फरवरी को निर्भया गैंगरेप केस के चारों आरोपियों को सुबह 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। जिसको लेकर तिहाड़ जेल प्रशासन ने दोषियों के परिजनों को लिखित में फांसी की सूचना दी है। तिहाड़ प्रशासन की तरफ से पत्र में लिखा गया है कि दोषियों को 1 फरवरी की सुबह 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा।

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस और वकीलों के बीच हुई भिड़ंत का मामला बढ़ता जा रहा है। बता दें, दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर बीते शनिवार को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के मामले ने आज एक नया मोड़ ले लिया है। बीते तीन दिनों से जहां देशभर में वकील इस घटना का विरोध कर रहे थे वहीं आज दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिसकर्मी प्रदर्शन कर रहे हैं।

पीड़िता के परिजनों ने इस मामले की सुनवाई को यूपी की बजाय दिल्ली की अदालत में ट्रांसफर किए जाने की मांग की थी। इसके बाद इस मामले की सुनवाई दिल्ली हाई कोर्ट में हुई थी।

बिरजू किशोर सल्ला नाम के एक शख्स को स्पेशल एनआईए कोर्ट ने ऐंटी-हाइजैकिंग ऐक्ट 2016 के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई है। बिरजू पेशे से एक जूलर हैं। इसके अलावा 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। बिरजू ने 30 अक्टूबर 2017 को जेट एयरवेज की एक फ्लाइट के टॉइलट में मेसेज 'प्लेन में हाइजैकर्स मौजूद हैं' लिखा था। इसके बाद फ्लाइट की इमर्जेंसी लैंडिंग करवानी पड़ी थी।

कठुआ गैंगरेप में सोमवार को अदालत ने फैसला सुनाया। 18 महीने पुराने इस मामले में कोर्ट ने 6 दरिंदों को दोषी माना। जिसमें 3 को उम्रकैद की सजा सुनाई और 3 को पांच साल की। उम्रकैद पाने वालों में इस खौफनाक साजिश का मास्टर माइंड संजी राम भी शामिल है।

बेगूसराय से भाजपा के उम्मीदवार गिरिराज सिंह को न्यायालय से मिली बड़ी राहत

ब्राजील की एक अदालत ने देश के पूर्व राष्ट्रपति लुईज इनेसियो लूला डि सिल्वा को रिश्वत एवं धनशोधन के एक मामले में सुनाई गई 12 साल की सजा कम कर दी है। लूला की याचिका की सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट ऑफ जस्टिस के 4 न्यायाधीशों के एक पैनल ने उनकी दोषसिद्धि बरकरार रखी, लेकिन सजा की अवधि कम करके आठ साल 10 महीने कर दी।

हाई कोर्ट ने साक्ष्यों के अभाव में यूपी पुलिस के बर्खास्त सिपाही संदीप को जमानत दे दी। वारदात के वक्त संदीप मुख्य आरोपी प्रशांत चौधरी के साथ ही था। विवेक तिवारी हत्याकांड के मामले में आरोपी संदीप कुमार ने बेल एप्लिकेशन हाई कोर्ट में डाली थी।