#COVID19Pandemic

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "कोरोना के खिलाफ इस बड़ी और लंबी लड़ाई के लिए सबसे महत्वपूर्ण था कि देश में तेजी के साथ कोरोना स्पेसिफिक हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण हो। इसी वजह से बहुत शुरूआत में ही केंद्र सरकार ने 15 हजार करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान कर दिया था।"

दुनियाभर में कोरोनावायरस का प्रकोप थमने नहीं ले रहा है। कोविड-19 संक्रमितों की संख्या में पहले की तुलना में अब काफी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इस बीच ब्रिटेन के तीन यूनिवर्सिटी प्रोफेसर कोरोना की एक दवा खोजकर रातोरात करोड़पति बन गए।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, रविवार 26 जुलाई को देशभर में कुल 515472 कोरोना टेस्ट हुए हैं, जो एक दिन में अबतक हुए सबसे ज्यादा टेस्ट है।

उन्होंने डोर-टू-डोर सर्वे कार्य में तेजी लाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके माध्यम से अधिक से अधिक लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग की जाए। मेडिकल स्क्रीनिंग में कोविड-19 के संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध पाए जाने वाले लोगों की रैपिड एंटीजन टेस्ट के माध्यम से जांच की जाए।

वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 22 जुलाई तक टेस्ट किए गए कोरोनावायरस सैंपलों की कुल संख्या 1,50,75,369 है, जिसमें 3,50,823  सैंपलों का टेस्ट बीते 24 घंटे में किया गया।

पीएम मोदी ने देश के 200 स्कूलों में एआई करिकुलम लॉन्च करने में आईबीएम की भूमिका की सराहना की। कंपनी ने सीबीएसई के साथ मिलकर यह कार्यक्रम शुरू किया है।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के लक्षणरहित संक्रमित लोग बीमारी को छुपा रहे हैं, जिससे संक्रमण बढ़ सकता है। इसलिये राज्य सरकार एक निर्धारित प्रोटोकॉल के अधीन शर्तों के साथ होम आइसोलेशन की अनुमति देगी।

राजधानी भोपाल में शनिवार को 140 नए मामले सामने आए। अब यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4224 पहुंच गई है। इनमें से 2866 लोग स्वस्थ होकर घर पहुंच गए हैं। यहां अब तक 129 मरीजों की जान जा चुकी है।

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने शुक्रवार को बताया कि भारत में तैयार होने वाली कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल पीजीआई रोहतक में शुरू हो गया है।

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस के सर्वाधिक 29,429 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि इस दौरान 582 लोगों की मौत होने की पुष्टि हुई है। इसी के साथ देश में संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 9,36,181 हो गया है और अब तक 24,309 मरीजों की मौत हो चुकी है।