Defence Minister Rajnath Singh

सीमा विवाद के बीच रूस (Russia) की राजधानी मास्को (Moscow) पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने एक बार फिर चीन को जमकर खरी खोटी सुनाई है।

शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के दौरान भारत और रूस (India and Russia) के बीच एक खास डील हुई है, जिसके बाद भारत की ताकत और इजाफा हो जाएगा।

चीन (China) से तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) रूस (Russia) की तीन दिवसीय यात्रा के लिए बुधवार को मास्को (Moscow) के लिए रवाना होंगे।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने बताया कि देश में दक्षिण-पश्चिम मानसून और बाढ़ की वर्तमान स्थिति से निपटने के वास्ते तैयारियों की समीक्षा के लिए असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल बैठक में शामिल हुए। बैठक में बाढ़ के संकट को रोकने के लिए विस्तार से चर्चा की गई। 

इससे पहले दिन में राजनाथ ने कहा, "रक्षा मंत्रालय अब आत्मनिर्भर भारत की पहल में एक बड़ा योगदान देने के लिए तैयार है। मंत्रालय ने रक्षा उपकरणों के उत्पादन में स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के लिए 101 उपकरणों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है।"

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'हमने कोविड-19 की स्थिति पर भी बात की। दोनों देश इस महामारी से मिलकर कैसे लड़ सकते हैं, इस पर भी हमारे बीच वार्ता हुई।'

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारत शांति चाहता है लेकिन चीन के साथ वार्ता का कोई अंतिम नतीजा निकलने की गारंटी नहीं है। उन्होंने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीन के साथ विवादपूर्ण सीमा क्षेत्रों में सैन्य तैयारियों का जायजा लिया और जमीनी स्थिति की समीक्षा की।

सीमा पर तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आज से दो दिन के लद्दाख और कश्मीर के दौरे पर हैं। आज वह पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल विपिन रावत, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ लेह पहुंचे।

बैठक के दौरान राजनाथ सिंह ने निर्देश दिया है कि सभी सीमा ढांचा (इन्फ्रास्ट्रक्चर) पर तेजी से कार्य किया जाए, ताकि सुरक्षा बलों की आवाजाही प्रभावित न हो।

देश में हर साल की तरह इस साल भी नेशनल डॉक्टर्स-डे मनाया जा रहा है। इस खास अवसर पर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह समेत कई मंत्रियों ने डॉक्टरों को सलाम किया।