Delhi Assembly Election

दिल्ली विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अरविंद केजरीवाल को करारा झटका लगा है। दिल्ली हाईकोर्ट ने आम आदमी पार्टी के विधायक और पूर्व मंत्री जितेंद्र तोमर के 2015 विधानसभा चुनाव को रद्द कर दिया है। तोमर साल 2015 के विधानसभा चुनाव में आप के टिकट पर जीते थे।

आप पार्टी के सीलमपुर से विधायक हाजी इशराक ने अरविंद केजरीवाल पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने CAA के खिलाफ विरोध के लिए न्योता देने पर टिकट काट दिया।

आने वाले दिनों में पार्टी नेताओं के बयान की बौछारें होंगी। इस बीच राजनीतिक पार्टियां अपनी-अपनी रणनीति के जरिए जनता के बीच अपना दांव खेंलेंगी और दम दिखाएंगी। चुनाव जोर गरम में आज जिक्र उन मतदाताओं का जो दिल्ली के चुनाव में बड़ा असर दिखा सकते हैं।

दिल्ली में विधानसभा चुनावों के तारीखों का ऐलान आज हो सकता है। चुनाव आयोग दोपहर 3:30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वोटिंग की तारीखों का ऐलान करेगी।

ननकाना साहिब की घटना पर अमित शाह ने कहा कि, "विपक्षी करते हैं कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार नहीं होते। केजरीवाल, राहुल-सोनिया गांधी जी आंख खोलकर देख लो, बीते दिनों ही ननकाना साहिब जैसे पवित्र स्थल पर हमला करके सिख भाइयों को आतंकित करने का काम पाकिस्तान ने किया है।"

बीजेपी में सात सीएम पद के दावेदार हैं। ऐसे में आम आदमी पार्टी ने सीएम पद के उम्मीदवार को बधाई देने की खातिर सभी सात उम्मीदवारों को बधाई दे दी।

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शनों में हुई हिंसा को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा है। बता दें, उन्होंने गुरुवार को एक समारोह में कहा, 'दिल्ली की टुकड़े-टुकड़े गैंग को सबक सीखाया जाना चाहिए।'

आप ने पिछले विधानसभा चुनाव में सर्वाधिक 67 सीटें जीती थी, जबकि कांग्रेस अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी। भाजपा के लिए कराए गए सर्वे में कहा गया कि इस बार भाजपा अपने वोट प्रतिशत में सुधार करते हुए 46.6 प्रतिशत प्राप्त कर सकती है।

करीब एक महीने पहले आप से अलग हो चुकी अलका अब पूरी तरह से कांग्रेस के साथ आ गई हैं। दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको की मौजूदगी में अलका लांबा ने कांग्रेस का दामन थामा है।

वैसे केजरीवाल ने कुछ दिन पहले भी NRC को लेकर एक बयान दिया था जिसपर काफी बवाल मचा था। बता दें कि 26 सितंबर को एनआरसी के मुद्दे पर केजरीवाल ने कहा था कि अगर राष्ट्रीय राजधानी में NRC लागू हुआ तो सबसे पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को शहर छोड़ना होगा।