Delhi Assembly Elections

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बड़ी पार्टियों के तौर पर आम आदमी पार्टी, भाजपा, कांग्रेस मैदान में हैं वहीं इस बार आरजेडी, एलजेपी और शिअद ने भी कुछ सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को पति रॉबर्ट वाड्रा और बेटे रेहान राजीव वाड्रा के साथ दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव में महिलाओं से वोट देने का आग्रह करते हुए कहा कि जैसे वे घर की जिम्मेदारी उठाती हैं, वैसे ही राष्ट्र और दिल्ली की जिम्मेदारी भी उनके कंधों पर है। केजरीवाल ने कहा कि सभी महिलाएं मतदान करें और घर के पुरुषों को भी साथ ले जाएं।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचार खत्म हो गया। यह चुनाव अब तक का सबसे रोमांचक चुनाव रहा। प्रचार में दोनों ही तरफ से करारे वार किए गए। प्रचार के अंतिम वक्त में बीजेपी की ओर से अमित शाह और आम आदमी पार्टी की ओर से अरविंद केजरीवाल ने अंतिम दांव चला।

भारतीय जनता पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर मान रही है कि यहां की जनता की तरफ से पार्टी के नेताओं को अच्छा रिस्पांस मिल रहा है।

दिल्ली विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं वैसे-वैसे हर रोज अलग-अलग पार्टियों के नेताओं के नए रंग-डंग सामने आ रहे हैं। तो कहीं अपनी ही पार्टी से नाराज चल रहे नेता नए-नए खुलासे करते हुए नजर आ रहे हैं।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के उम्मीदवार और दिल्ली की बदरपुर सीट से मौजूदा विधायक एनडी शर्मा ने गुरुवार को दावा किया कि उनपर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ी भविष्यवाणी कर दी है। दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार में उतरे योगी ने कहा कि जल्दी ही ओवैसी भी हनुमान चालीसा पढ़ेंगे।

दिल्ली चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया। भाजपा के बाद आम आदमी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में कई ऐलान किए हैं। केजरीवाल ने गारंटी कार्ड के अलावा 28 वादे किए हैं।

भाजपा के 'फायरब्रांड' नेता सिंह ने केजरीवाल पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए ट्वीट किया, "केजरीवाल ने तुष्टिकरण से दिल्ली को कट्टरपंथियों का गढ़ बना दिया। और कट्टरपंथी तैयार हो सके इसके लिए मौलवियों और सहायक को 18,000 रुपये की तनख्वाह दी जा रही है। शांति का संदेश देने वाले दिल्ली के मंदिर और उनके पुजारी दिल्ली का हिस्सा नहीं? वोट बैंक की राजनीति ने दिल्ली को बर्बाद कर दिया।"