Delhi Violence

दिल्ली हिंसा को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी सोशल मीडिया पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने दिल्ली हिंसा को लेकर कई ट्वीट कर मोदी सरकार को निशाने पर लिया है।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा में जहां एक तरफ दिल्ली हेड कॉस्टेबल रतनलाल शहीद हुए वहीं दूसरी तरफ उपद्रवियों ने एक आईबी के कॉन्स्टेबल की हत्या कर शव को नाले में फेंक दिया। जिसके बाद शव को चांद बाग पुलिया पर नाले से निकाला गया है। बताया जा रहा है कि मृतक अंकित शर्मा खजूरी में रहते थे।

इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार ट्वीट करते हुए दिल्ली की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है कि दिल्लीवासियों से शांति की अपील करता हूं।

संशोधित नागरिकता कानून(सीएए) को लेकर उत्तरपूर्वी दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में भड़की हिंसा में शामिल लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करने और उन्हें गिरफ्तार करने की मांग करने वाली एक याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय में सुनवाई चल रही है।

आज अभाविप विधि संकाय इकाई के द्वारा आयोजित श्रद्धांजलि सभा में छात्रों ने शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल, जो की सीएए विरोधी हिंसक दंगों में कानून व्यवस्था को बनाये रखने के अपने कर्तव्य का पालन करते हुए शहीद हो गए को श्रद्धांजलि अर्पित की।

उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में सीएए के विरोधी और समर्थकों के बीच हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी वजह से गुरु तेग बहादुर अस्पताल पहुंचाए जा रहे घायलों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। घायलों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने बताया कि 15 से ज्यादा लोग गोली लगने से घायल हुए हैं।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने मंगलवार को कहा कि कुछ तत्व अभी भी दिल्ली में हिंसा भड़काने की कोशिश कर रहे हैं। मंत्री ने संवाददाताओं से कहा, "खबरें आ रही हैं कि आज भी हिंसा पैदा करने की कोशिश की जा रही है। हम हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों का पता लगाने के लिए उच्च स्तरीय जांच करेंगे और लोगों के सामने सच्चाई लाएंगे।"

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा जारी है। देश की राजधानी में बिगड़े हालात को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पुलिस अधिकारी शामिल हुए।

गौतम गंभीर ने कहा कि, चाहे वह कपिल मिश्रा हो या किसी और दल के लोग, जो भी भड़काऊ भाषण दे उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

दिल्ली में दंगा करने वाले दंगाइयों की पहचान मुकम्मल हो चुकी है। दिल्ली पुलिस बड़ा एक्शन लेने की तैयारी में है। सूत्रों के मुताबिक सिर्फ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के समाप्त होने का इंतजार किया जा रहा है।