Demonstration

Singhu border: कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन(Farmer Protest) आज 16वें दिन भी जारी है। अपनी मांगों के साथ सिंघु बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान अभी भी डटे हुए हैं।

Farmers Protest: इस बैठक में एक किसान संगठन के प्रतिनिधि ने अपनी बात रखते हुए कहा कि, किसान कृषि कानूनों(Fermers Laws) के खिलाफ सड़कों पर है, और चाहते हैं कि सरकार को इन कानूनों को वापस ले।

किसानों को समर्थन देने शाहीन बाग की ‘दादी’ बिल्किस बानो (Bilkis Bano) पहुंची। सिंधू बॉर्डर पर उनके पहुंचने और विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के बाद उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

Live: कृषि बिल (New Farm law) के विरोध में किसानों का विराध प्रदर्शन (Farmers Protest) मंगलवार को भी जारी है। आज प्रदर्शन का 6वां दिन है। कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-यूपी-हरियाणा बॉर्डर पर किसान अभी भी डटे हुए हैं। हालांकि आज केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठनों के नेताओं को बातचीत के लिए मंगलवार को बुलाया है।

कृषि बिल (New Farm law) के विरोध में किसानों का विराध प्रदर्शन (Farmers Protest) सोमवार को भी जारी है। कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-यूपी-हरियाणा बॉर्डर पर किसान अभी भी डटे हुए हैं। उन्होंने सिंधु बॉर्डर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी नाराजगी जताई है।

Live: कृषि बिल (New Farm law) के विरोध में किसानों का विराध प्रर्दशन (Farmers Protest) रविवार को भी जारी है। कृषि कानूनों के खिलाफ गाजियाबाद-दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसान अभी भी डटे हुए हैं।

Haryana : कृषि बिल (New Farm law) के विरोध में किसान 26 से 28 नवंबर तक ‘दिल्ली मार्च’ (Delhi March) निकाल रहे हैं। शनिवार को तीसरे दिन भी किसानों का प्रदर्शन जारी है। इसी बीच हरियाणा के कुरुक्षेत्र में दिल्ली कूच करने वाले किसानों और नेताओं के खिलाफ केस दर्ज (Case Filed) किया गया है।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP), दिल्ली के नेतृत्व में आज सुबह छात्रों ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) आवास की ओर कूच कर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन (Protest) में हिस्सा लिया।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त किए गए वार्ताकारों में से एक वजाहत हबीबुल्ला ने शाहीन बाग में सड़क अवरोध पर एक हलफनामा दायर किया है। उन्होंने हलफनामे में कहा कि पुलिस ने शाहीन बाग के आसपास पांच रास्तों को बंद कर रखा है।

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय प्रशासन ने रविवार को कहा कि सोशल मीडिया पर 15 दिसंबर की रात की घटना का वायरल हो रहा वीडियो उन्होंने जारी नहीं किया है।