Diabetes

देश में कोरोना संकट के बीच इस समय किसी भी बीमारी में उन मरीजों का इलाज करना बेहद मुश्किल होता है, जिसे डायबिटीज शिकायत होती है।

पूरी दुनिया इस समय कोरोना संकट से जूझ रही है। ऐसे में अब तक इस महामारी की एक वैक्सीन की तलाश जारी है। इसी बीच वुहान से एक खुशखबरी सामने आयी है। मेटफॉर्मिन नाम की दवा कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल की जा रही है। जिसके रिजल्ट पॉजिटिव आए हैं।

डायबिटीज मैनेजमेंट में वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा विकसित आयुर्वेदिक दवा प्रभावी साबित हो रही है। विभिन्न शोध में आयुर्वेदिक दवाओं को टाइप 2 मधुमेह रोगियों के लिए काफी कारगर पाया गया है। सरकार देश भर में डायबिटीज मैनेजमेंट को लेकर कार्यक्रम चला रही है।

सरकार जहां विभिन्न अवसरों पर मधुमेह से बचाव के अभियान चला रही है, वहीं अब इसके उपचार के लिए हर्बल दवाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। काउंसिल ऑफ सांइटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च यानी सीएसआईआर की मदद से हर्बल दवाओं की खोज की गई है।

एक बयान में बताया गया है कि आयुर्वेदिक फार्मूले से बनी इस आधुनिक दवा के प्रभाव को वैज्ञानिक आकलन के आधार पर प्रमाणित किया जा चुका है। इस बीमारी के गंभीर मरीजों के इलाज में इस दवा को पूरक औषधि के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।

डायबिटीज की बीमारी अब जैसे आम बात हो गई है। ये बीमारी बच्चों से लेकर बडे-बूढ़ों लोगों को भी होती है। यह बीमारी पूरे विश्व के सामने एक चुनौती बनी हुई है जिस वजह से हमेशा नए-नए शोध होते रहते हैं। हाल ही में हुए एक नए शोध के अनुसार छोटे कद के लोगों में डायबिटीज का खतरा ज्यादा होता है।

वर्ष 2015 के दौरान आकस्मिक चोटों के कारण 4.13 लाख लोगों की जान चली गई और 1.33 लाख लोगों की आत्महत्या के कारण मृत्यु हो गई। भारत में दिव्यांगों की कुल संख्या 2.68 करोड़ बताई गई है।

लालू यादव के खून में संक्रमण है। लालू को एक छोटा फोड़ा हो गया था, जो बाद में बड़ा हो गया। इसके बाद ऑपरेशन किया गया। फोड़े के उपचार के दौरान संक्रमण का भी पता चला।

कलौंजी डायबिटीज से बचाता है, पिंपलस, सिरदर्द, अस्थमा, आंखों की रोशनी, कैंसर से बचाव, ब्लड प्रेशर कंट्रोल, मेमोरी पावर बढ़ाने में, आंखों की रोशनी, कैंसर आदि तक में उपयोगी और लाभकारी है. कलौंजी एक बेहद उपयोगी मसाला है.

आयुष मंत्रालय के अनुसार इस बार योगलोकेटर एप की मदद से आम जनता को योग प्रशिक्षकों, योग केन्द्रों और मुफ्त योग आयोजनों की जानकारी मिलेगी। वहीं, भुवन मोबाइल एप के जरिए योग दिवस के कार्यक्रमों के स्थान, प्रतिभागियों, आयोजकों और प्रशिक्षकों के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है