diwali

आतिशबाजी से होने वाले प्रदूषण के बढ़ते खतरे के मद्देनजर पिछले साल दिवाली से पहले सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश में सिर्फ हरित पटाखे बेचने की अनुमति प्रदान की थी।

दिवाली पर दिल्ली-एनसीआर में जलाए गए पटाखों का असर साफ तौर पर देर रात को नजर आया। दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पीएम10 और पीएम 2.5 लेवल 950 तक पहुंच गया।

अमावस्या हर माह आती है। यही बताने कि तमस् भी संसार सत्य का अंग है। रात्रि को प्रकाशहीन कहा जाता है पर ऐसा है नहीं। रात्रि में चन्द्रप्रकाश होता है। क्रमशः घटता बढ़ता हुआ। अमावस्या अंधकार से परिपूर्ण रात्रि है।

इससे पहले कमल शर्मा को मार्च 2017 में भी हार्ट अटैक पड़ा था। तब डीएमसी हीरो हार्ट इंस्टीट्यूट के डॉक्टरों ने उनके दिल की आरटरीज में एक स्टेंट डाला था। तब उन्हें सीने में दर्द की शिकायत हुई थी।

इस बार अयोध्या में 5 लाख 51 हजार दीए जलाए गए जो खुद में एक रिकॉर्ड है। शुरुआत में राम का अवतार में कलाकार को होलिकॉप्टर से उतारा गया फिर योगी आदित्यनाथ ने राम और सीता की आरती कर इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

भगवान राम की नगरी अयोध्या में शनिवार को तीसरा दीपोत्सव आयोजित होगा। इसके पहले यहां के साकेत महाविद्यालय से भगवान की लीला पर आधारित 11 झांकियां निकाली गईं।

सभी घाटों और पूरी राम नगरी में पांच लाख 51 हजार दीप जलाए जाएंगे। चार लाख दीप अकेले रामकी पैड़ी के घाटों पर जलेंगे। बाकी एक लाख 51 हजार दीप 11 दूसरे चुनिंदा जगहों पर जगमग होंगे।

कंगना अपनी बहन रंगोली और 'थलाइवी' की टीम के साथ डिनर करती नजर आ रही हैं।

दो तरीके से मां काली की पूजा की जाती है, एक सामान्य और दूसरी तंत्र पूजा। सामान्य पूजा कोई भी कर सकता है। माता काली की सामान्य पूजा में विशेष रूप से 108 गुड़हल के फूल, 108 बेलपत्र एवं माला, 108 मिट्टी के दीपक और 108 दुर्वा चढ़ाने की परंपरा है।

इस बार 7 देशों की रामलीला भी लोगों के आकर्षण का केंद्र बन रही है। इस बार भगवान राम के जन्म से लेकर राज्याभिषेक तक के पूरे दृश्य को ग्यारह झांकियों के रूप में तैयार किया गया है, जिसे अयोध्या की सड़कों पर दिखाया जा रहा है।