Donald Trump

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पहले WHO को चीनपरस्त बताया उसके बाद संगठन प्रमुख टेड्रोस एडहैनम गेब्रेयेसस पर निशाना साधा है।

हले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उनके देश ने कोरोनावायरस की महामारी से लड़ने के लिए हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की 2.9 करोड़ खुराक खरीदी है, जिसमें भारत की बहुत बड़ी हिस्सेदारी है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा के निर्यात को मंजूरी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में जमकर कसीदे पढ़े हैं।

फिलहाल उन्होंने इसकी घोषणा नहीं की कि वो डब्ल्यूएचओ के लिए खर्च किए जाने वाले कितने पैसे पर रोक लगाएंगे। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "मैं यह नहीं कह रहा कि मैं यह करने जा रहा हूं।"

दरअसल ‘हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन’ मलेरिया की एक पुरानी और सस्ती दवाई है, जिसे कोविड-19 के इलाज के लिए एक व्यवाहरिक उपचार बताया जा रहा है। इसी को लेकर भारत सरकार द्वारा फैसला किया गया है कि इस दवा की आपूर्ति कुछ देशों को भी की जाएगी जो विशेष रूप से महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

पिछले सप्ताह अमेरिकी शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई थी। कोरोनावायरस ने अमेरिका समेत पूरी दुनिया में कहर बरपाया है। अमेरिका में इस महामारी ने 10,000 से ज्यादा लोगों की जान ले ली है जबकि इसके संक्रमण के मामले 3.67 लाख से अधिक हो गए हैं।

कोरोनावायरस को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को फ़ोन पर बातचीत की। दोनों ने ही अपने अपने देशों में बढ़ रहे कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों पर अपनी चिंताएं व्यक्त कीं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन यानी सीडीसी ने अपनी सिफारिश में कहा है कि अमेरिकियों को कोरोनावायरस से बचाने के लिए कपड़े से बने मास्क को पहनना चाहिए।

शुक्रवार को घोषित राष्ट्रीय आपातकाल में बीमारी के खिलाफ लड़ने के लिए और अधिक धनराशि उपलब्ध कराई जा सकेगी और चिकित्सा समाधान खोजने के लिए लालफीताशाही में कमी आएगी।

सप्ताहांत में अमेरिका के दौरे में राष्ट्रपति जायर बोलोनसरो के साथ वाजेगार्टन भी मौजूद थे, जहां उन्होंने ट्रंप, पेंस और अन्य व्हाइट हाउस के अधिकारियों से मुलाकात की थी।