education

कुलपति ने बताया, "वायरस क्या है? कोरोना का प्रकोप महामारी का भौगोलिक स्वरूप क्या है, इससे निपटने के लिए सरकार क्या प्रयास कर रहे हैं? आगे चलकर ऐसी परिस्थिति आती है तो इससे कैसे निपटा जाए। इन सभी बातों का उल्लेख करके एक पाठ्यक्रम बनाया गया है। इसे जागरूकता का नाम दिया गया है।"

महामारी के मद्देनजर 10वीं और 12वीं कक्षा की आईसीएसई 2020 की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। यह जानकारी काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एक्जामिनेशन (सीआईएससीई) द्वारा जारी अधिसूचना के माध्यम से दी गई। "देशभर में फैले कोविड-19 कोरोनावायरस को देखते हुए और बहुत सारी अनिश्चितता और अटकलों के बीच परिषद ने छात्रों और शिक्षण समुदाय के स्वास्थ्य और कल्याण के हित को देखते हुए सभी आईसीएसई और आईएससी 2020 परीक्षा, जो 19 मार्च से 31 मार्च की अवधि के बीच आयोजित की जानी है, उसे स्थगित करने का फैसला किया है।"

इसके अलावा केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को संसद में बजट पेश करते हुए कहा कि वित्तवर्ष 2020-21 में कृषि ऋण का लक्ष्य 15 लाख करोड़ रुपये रखा गया है।

स्वीकृत प्री-प्लेसमेंट ऑफर (पीपीओ) को शामिल करें तो कुल 848 छात्रों को पहले ही नौकरी पर रखा जा चुका है। इस बार नौकरियों के लिए हुआ छात्रों का चयन पिछले वर्ष (2018-19) के आसपास ही है। उस समय कुल 844 छात्रों को पहले चरण में नौकरी का प्रस्ताव मिल गया था।

हाल ही में आनंद की जीवनी पर बनी फिल्म 'सुपर 30' हिट हुई है। इस फिल्म में आनंद कुमार की भूमिका ऋतिक रौशन ने निभाया है। यह फिल्म अमेरिका में भी खूब देखी गई और अब वहां के लोग आनंद कुमार से मिलना और उनकी बात सुनना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने पोस्ट में टैग करते हुए अभिनेत्री ने आगे लिखा, "हैशटैगबेटीबचाओ को मात्र एक अभियान तक सीमित नहीं रखा जा सकता।

विभागीय अधिकारी के मुताबिक, राज्य में 1163 पंचायतों में दो-दो और 193 पंचायतों में एक-एक कमरे बनाए जाने हैं। इसके अलावा कई स्कूलों में शौचालय का भी निर्माण होना है।

पुरस्कार की प्रक्रिया मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा 'स्वच्छ भारत मिशन' के तहत की जाती है, जिसका उद्देश्य उच्च शैक्षणिक प्रणाली व अन्य में पर्यावरणीय हाईजीन को प्रमोट करना है। जेजीयू ने स्वच्छ कैंपस रैंकिंग में क्रमश: 2017 और 2018 में पहला और दूसरा स्थान प्राप्त किया था।

शिक्षा के महत्व को बताती मो. इलियास मलिक की किताब-‘’Each One Teach One’’ का किया गया लोकार्पण

जिलाधिकारी ने कहा, "यह चौरा के एक हायर सेकेंडरी स्कूल में में एक आकस्मिक निरीक्षण था और मैंने छात्रों को अंग्रेजी किताब को देख कर पढ़ने के लिए कहा, लेकिन वे नहीं पढ़ पाए। फिर मैंने शिक्षिकाओं से पढ़ने को कहा और मैं यह देखकर चौंक गया कि वे अंग्रेजी का एक शब्द भी नहीं पढ़ पाईं।"