education

विभागीय अधिकारी के मुताबिक, राज्य में 1163 पंचायतों में दो-दो और 193 पंचायतों में एक-एक कमरे बनाए जाने हैं। इसके अलावा कई स्कूलों में शौचालय का भी निर्माण होना है।

पुरस्कार की प्रक्रिया मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा 'स्वच्छ भारत मिशन' के तहत की जाती है, जिसका उद्देश्य उच्च शैक्षणिक प्रणाली व अन्य में पर्यावरणीय हाईजीन को प्रमोट करना है। जेजीयू ने स्वच्छ कैंपस रैंकिंग में क्रमश: 2017 और 2018 में पहला और दूसरा स्थान प्राप्त किया था।

शिक्षा के महत्व को बताती मो. इलियास मलिक की किताब-‘’Each One Teach One’’ का किया गया लोकार्पण

जिलाधिकारी ने कहा, "यह चौरा के एक हायर सेकेंडरी स्कूल में में एक आकस्मिक निरीक्षण था और मैंने छात्रों को अंग्रेजी किताब को देख कर पढ़ने के लिए कहा, लेकिन वे नहीं पढ़ पाए। फिर मैंने शिक्षिकाओं से पढ़ने को कहा और मैं यह देखकर चौंक गया कि वे अंग्रेजी का एक शब्द भी नहीं पढ़ पाईं।"

इस अवसर पर पुस्तक के लेखक मो. इलियास मलिक ने भी अपनी बात रखी। सबसे पहले उन्होंने डॉ. अशोक पांडे का धन्यवाद किया और इस पुस्तक के लिए उनका आभार जताया। उन्होंने कहा कि ये स्लोगन ‘’Each One Teach One’’ नया नहीं है पुराना है लेकिन यदि इस पर सही तरीके से काम किया जाएगा तो यह स्लोगन एक संदेश बन जाएगा।

"ई-लर्निग के माध्यम से छात्रों को आसानी से विषय समझ आ जाए, इसकी पूरी तैयारी की गई है। गणित से जुड़े सारे सूत्र और पाठ्य सामाग्री के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। गणित के फार्मूलों को हल करने का सरल तरीका एप में अपलोड रहेगा।

प्री-स्कूल(नर्सरी), प्री प्राइमरी (केजी) और कक्षा 1 में दाखिला के लिए बच्चों की उम्र मार्च 31 तक प्रवेश के दौरान क्रमश: तीन साल, चार साल और पांच साल होनी आवश्यक है।

मोदी सरकार शिक्षा और परीक्षा में बड़ा बदलाव करने जा रही है। अब पढ़ाई बोझ नहीं रह जाएगी बल्कि पढ़ाई का सीधा ताल्लुक रोजगार से होगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 10वीं और 12वीं के परीक्षा पैटर्न में बदलाव करने का निर्णय किया है।

उन्होंने कहा कि छात्रों को वैश्विक और स्थानीय चुनौतियों को समझने और उस मामले में सवाल पूछने में सक्षम होने के लिए सीखने की प्रक्रिया में अंतर्राष्ट्रीय जोखिम की आवश्यकता होती है।

उन्होंने कहा कि ऐसे छिपे प्रतिभाओं में भी न्यूटन, रामानुजन, डार्विन, रदरफोर्ड बनने की क्षमता है, लेकिन शायद अवसर की कमी के कारण उनकी प्रतिभा खो जाती है।