Election Commission

इसी के तहत लोकसभा चुनाव नतीजों से पहले विपक्षी दलों ने मंगलवार को चुनाव आयोग से मिलने की तैयारी की है। इस मुलाकात में ईवीएम के साथ वीवीपैट की पर्ची के मिलान का मुद्दा उठाया जाएगा। विपक्ष की मांग है कि यदि किसी भी मतदान केंद्र पर गड़बड़ी पाई जाती है तो समूचे विधानसभा क्षेत्र में ईवीएम के साथ वीवीपैट का मिलान होना चाहिए।

बता दें कि प्रणब मुखर्जी की इस टिप्पणी से एक दिन पहले कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगाया था। यही नहीं विपक्षी दल चुनाव आयोग के कथित तौर पर बीजेपी के प्रति झुकाव रखने को लेकर आयोग की आलोचना करते रहे हैं।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने एक बयान में कहा, "मीडिया के एक वर्ग में आदर्श आचार संहिता से निपटने के संबंध में भारत निर्वाचन आयोग की आंतरिक कार्यप्रणाली के बारे में आज एक बेकार और गैर जरूरी विवाद की खबर आई है।"

चुनाव आयोग में हो रहे विवाद के बीच बिहार के उपमुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को कहा कि चुनाव आयोग सहित अन्य संवैधानिक संस्थाओं की गरिमा को गिराना और उसके कामकाज में हस्तक्षेप करना कांग्रेस की आदत रही है।

अभिनेता से नेता बने सनी देओल गुरदासपुर में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ का सामना कर रहे हैं। इस क्षेत्र का अभिनेता विनोद खन्ना ने चार बार प्रतिनिधित्व किया था।

निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को क्लीन चिट दिए जाने के मामले में अपनी असहमति को रिकॉर्ड नहीं किए जाने को लेकर आदर्श आचार संहिता से संबंधित आयोग की बैठकों से दूर रहने का फैसला किया है।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, 'चुनाव आयोग है या चूक आयोग। लोकतंत्र के लिए एक और काला दिन। चुनाव आयोग के सदस्य ने बैठकों में शामिल होने से इनकार किया।'

सूत्रों से पता चला है कि चुनाव आयुक्त लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने कहा है कि अल्पसंख्यक निर्णयों को रिकॉर्ड नहीं किया जा रहा है इसलिए वे पूर्ण आयोग की बैठकों से दूर रहने के लिए मजबूर हैं।

चुनाव आयोग ने धूनी रमाने और हठयोग करने पर कंप्यूटर बाबा को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। आयोग के नोटिस पर कंप्यूटर बाबा ने अपना जवाब दिया था। कंप्यूटर बाबा ने कहा था कि उन्होंने हठयोग में दिग्विजय सिंह को नहीं बुलाया था और न ही हठयोग का खर्च उन्होंने उठाया।

ममता बनर्जी ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कहा कि, "चुनाव आयोग मोदी और शाह के इशारों पर काम कर रही है। अमित शाह चुनाव आयोग को धमका रहे हैं, मोदी चुनाव आयोग की बांह मरोड़ रहे हैं।"