extradition

लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने दिसंबर में माल्या के भारत प्रत्यर्पण की इजाजत दी थी। फरवरी में यूके के गृह विभाग ने भी मंजूरी दे दी थी। उसके बाद माल्या ने फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

दरअसल, प्रत्यर्पण के खिलाफ याचिका दाखिल कर माल्या ने खुद को बचाने की एक और कोशिश की थी पर कोर्ट से उन्हें तगड़ा झटका लगा। इससे पहले ब्रिटेन के होम सेक्रटरी साजिद जाविद ने माल्या के प्रत्यर्पण आदेश पर हस्ताक्षर किए थे।

ब्रिटेन के अखबार द टेलीग्राफ की शनिवार को रिपोर्ट के मुताबिक, 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में आरोपी नीरव मोदी सेंटर प्वाइंट टॉवर ब्लॉक के एक फ्लोर के आधी जगह में अपने तीन बेडरूम के फ्लैट में खुलेआम रहता है।

पंजाब नेशनल बैंक को साढ़े 13 हजार करोड़ रुपए का चूना लगाकर देश से भागे मेहुल चौकसी ने भारत को एक और बड़ा झटका दिया है। बता दें, घोटाले के मुख्य आरोपी मेहुल ने भारतीय नागरिकता ही छोड़ दी है।

नई दिल्ली। भारत के बैंकों के हजारों करोड़ लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर बड़ी कामयाबी मिलने...

नई दिल्ली। भारतीय बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपये लेकर भागे कारोबारी विजय माल्या पर भारतीय एजेंसियों का दबाब कामयाब...