Favipiravir

जेनबर्कट फार्मास्युटिकल्स ने एक बयान में कहा कि इस दवा का निर्माण तेलंगाना के एक फार्मास्युटिकल प्लांट में किया गया। गुरुवार को फार्मा कंपनी ब्रिंटन फार्मास्युटिकल्स ने कहा था कि वह 'फवीटन' ब्रांड के नाम से फेविपिरविर को अधिकतम खुदरा मूल्य 59 रुपये प्रति टैबलेट के तहत बेचेगी।

एक तरफ कोरोनावायरस की मार से पूरी दुनिया कराह रही है तो वहीं इससे बचाने वाले टीके और दवाई के लिए खोज भी निरंतर जारी है।

एक तरफ जहां दुनिया भर में कोरोना वायरस से पूरी दुनिया पीड़ित है, वहीं विश्‍वभर में उसके निदान के लिए अलग-अलग वैक्‍सीन और दवा खोजी जा रही है, ऐसे में भारत ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स को कोविड-19 के लिए ऐंटीवायरल दवा फेविपिराविर बनाने और मार्केटिंग की परमिशन दी जा चुकी है।

ग्‍लेनमार्क पहली ऐसी कंपनी है जिसे भारत में कोविड-19 मरीजों पर परीक्षण के लिए नियामक ने अपनी मंजूरी दी है। स्‍वीकृत क्‍लीनिकल ट्रायल प्रोटोकॉल के तहत, उपचार की अवधि अधिकतम 14 दिन होगी और अध्‍ययन की कुल अवधि अधिकतम 28 दिन होगी।