flats

भले ही केंद्र सरकार ने आपके सपनों के घर को पूरा करने के लिए 25 हजार करोड़ रुपये के फंड के लिए मंजूरी दे दी हो लेकिन अभी तक अधूरे पड़े मकानों में काम तक शुरू नहीं किया गया है। वहीं दूसरी ओर विशेषज्ञ इस ढ़िलाई की वजह कुछ और ही बता रहे हैं।

प्राइम लोकेशन पर आयोजित इस प्रॉपर्टी एक्सपो में जयपुर के नामी बिल्डर्स के अफोर्डेबल होम्स, प्लॉट्स, विला, स्टूडियो अपार्टमेंट, फ्लैट, टाउनशिप, मकान, कामर्शियल यूनिट, रेडी टू शिफ्ट प्रोजेक्ट्स उपलब्ध हैं।

डीडीए की नई हाउसिंग स्कीम को लेकर लोगों में पूरा क्रेज दिखाई दे रहा है। डीडीए फ्लैट्स देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है।

40 लाख रुपये तक कीमत वाले मकानों के आकार में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज हुई है। हालांकि दूसरे शहरों में भी बिल्डर तेजी से मकानों का आकार घटा रहे हैं, लेकिन एनसीआर में छोटे घरों की डिमांड और युवाओं की खरीद क्षमता में इजाफे को इसका बड़ा कारण माना जा रहा है।