Galwan Valley

Galwan Clash: हाल ही में चीन ने पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीनी और भारतीय सैनिकों की झड़प का एक वीडियो जारी किया था। जिसमें कैप्‍टन सोइबा मानिंग्बा चीनी सैन्‍य अफसरों पर हावी पड़ते दिखाई दिए थे।

India-China Standoff: इस दौरान कमांडर्स हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और 900 वर्ग किमी वाले डेपसांग मैदान जैसे टकराव वाली जगहों को लेकर बात करेंगे। यह बातचीत सुबह 10 बजे चीनी पक्ष के मोल्डो में शुरू होगी। बता दें कि डेपसांग को पिछले साल मई में शुरू हुए गतिरोध का हिस्सा नहीं माना जा रहा था।

Galwan Valley China Death: चीनी मीडिया चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क (सीजीटीएन) ने दावा किया है कि पीएलए के पांच सैनिकों को मानद उपाधि और प्रथम श्रेणी के मेरिट प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया है। इसमें कहा गया कि जून, 2020 में सीमा पर हुए एक संघर्ष के दौरान चार चीनी सैनिकों को मरणोपरांत मानद उपाधियों और प्रथम श्रेणी के योग्यता पुरस्कारों से सम्मानित किया गया, जिसकी घोषणा शुक्रवार को केंद्रीय सैन्य आयोग (सीएमसी) ने की।

Indo-China Border Dispute: चीन के प्रोपेगेंडा अखबार ग्लोबल टाइम्स(Global Times) के संपादक ने इसको लेकर पहली बार माना है कि 14 जून की रात को गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारतीय सैनिकों (Indian Army) के साथ झड़प में चीन के सैनिकों की मौत हुई है।

सीमा पर चीन (China) लगातार नापाक साजिशों को अंजाम देने में लगा हुआ है। इतना ही नहीं पैंगोंग सो झील के दक्षिणी छोर पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) भारतीय सैनिकों को लगातार उकसाने की कोशिश भी कर रहा है।

भारत और चीन (India & China) के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर गतिरोध जारी है। इस बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) ने गुरुवार को कहा कि भारत को उत्तरी और पश्चिमी मोर्चो पर समन्वित कार्रवाई का खतरा है।

केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने बुधवार को एक बार फिर चीन (China) को बड़ा झटका दिया। चीनी ऐप्स पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए भारत सरकार ने 118 ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया।

भारत और चीन (India and China) के बीच बुधवार को हुई सैन्य वार्ता में कोई समाधान नहीं निकल सका है। सूत्रों ने कहा कि दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच बातचीत जारी रहेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के लालकिले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करने के एक दिन बाद, कांग्रेस (Congress) ने रविवार को सवाल किया कि एलएसी (LAC) और लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley) में हुई घटना के संदर्भ में स्वतंत्रता दिवस के अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने चीन का नाम क्यों नहीं लिया।

अमेरिका ने चीन को खरी खोटी सुनाते हुए कहा है कि चीन भारतीय सीमा में घुसकर टेस्ट कर रहा था कि दुनिया उसकी इस हरकत पर क्या रुख अपनाती है? हालांकि, ज्वार उसी की तरफ मुड़ गया है।