gujrat

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने उत्तर पूर्वी राज्यों के 50 छात्रों के साथ बातचीत की। ये छात्र नेशनल इंटरएक्टिव टूर के तहत गुजरात की यात्रा पर हैं।

स्वामीनारायण पंथ की एक शाखा के प्रमुख पुरुषोत्तम प्रिय दास जी महाराज का गुरुवार को निधन हो गया। इसका मंदिर गुजरात में यहां मणिनगर इलाके में स्थित है।

गुजरात में एक महिला कॉन्स्टेबल ने वह कर दिया जो केवल फिल्मों में ही देखने को मिलता है रियल लाइफ में ऐसे वाकये कम ही होते हैं।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के पूर्व महासचिव और गुजरात के पूर्व मुख्‍यमंत्री शंकर सिंह वाघेला शनिवार को कोरोनोवायरस से संक्रमित पाए गए। उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

वहीं गुजरात में कोरोना के मृत्यु दर की बात करें तो यह 9.16% है। पिछले 84 दिनों में कोरोना से गुजरात में कुल 1385 मौतें हुई है, जबकि इसमें से 1117 मौतें अकेले अहमदाबाद में हुई हैं।

गुजरात सरकार अपनी जनता के साथ-साथ प्रवासी मजदूरों का भी खास ख्याल रख रही है।

दूसरे राज्यों के मुकाबले गुजरात में कोरोना के ठीक हो रहे मरीजों की दर बेहद अधिक है। पंजाब में कोरोना के मरीजों के ठीक होने की दर केवल 9 फीसदी है। चंडीगढ़ में यह 14 फीसदी, महाराष्ट्र में 19 फीसदी, ओडिशा में 21 फीसदी जबकि पश्चिम बंगाल मे यह 21 फीसदी तक सीमित है।

मुख्यमंत्री ने गुजरात के उन सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी आभार जताया, जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान उत्तराखंड के लोगों के खाने और रहने की उचित व्यवस्था की।

बदरुद्दीन शेख बेहरामपुरा से कांग्रेस के कोर्पोरेटर थे। वह गुजरात कांग्रेस के विभिन्न पद्दों पर रहे चुके थे। खबरों के मुतबिक, बीते 15 अप्रैल के दिन कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्‍‍‍‍‍हें एसवीपी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के चलते वह 20 मार्च को अपने परिवार के पास पालनपुर में लौटे। स्वास्थ्य अधिकारियों ने उन्हें क्वारंटाइन में रखा था। पुलिस दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज कर आगे की जांच कर रही है।