gujrat

चक्रवाती तूफान से गुजरात के तटीय जिलों में भारी बारिश होने की उम्मीद है। इसके साथ ही 1 से 1.5 तक ज्वार उठने की उम्मीद है जिससे कच्छ, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, दीव, गिर सोमनाथ, अमरेली और भावनगर के निचले जिलों में पानी भरने की संभावना है।

मौसम विभाग ने अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण अगले कुछ दिनों में गुजरात और महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों खासकर तटीय जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अरब सागर में बने कम दबाव के क्षेत्र के गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल जाने का अनुमान है। इस तूफान को 'वायु' नाम दिया गया है।

हार्दिक पटेल ओबीसी कैटिगरी में पाटीदारों को शामिल करने को लेकर जब आंदोलन कर रहे थे तो उस दौरान उन्होंने अमित शाह पर आरोप लगाया था कि उनके इशारे पर राज्य में प्रदर्शनकारियों के साथ सख्त बर्ताव किया जा रहा है

बीजेपी और एनडीए संसदीय दल के नेता के तौर पर नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। इस मौके पर उनकी मां हीराबेन ने भी शपथ ग्रहण समारोह का लाइव प्रसारण टीवी पर देखा।

मोदी ने अपने पांच साल के कार्यकाल (2014-2019) की तुलना आजादी के पूर्व के पांच साल (1942-1947) से की जोकि मजबूत भारत की नींव करने के लिए अहम था।

लोकसभा 2019 चुनाव में बंपर जीत दर्ज करने के बाद पीएम का यह पहला गुजरात दौरा है, यहां पीएम अपनी मां से मिलकर आशीर्वाद लेने पहुंचे। जहां पीएम ने पांव छूकर मां का आशीर्वाद लिया। इससे पहले पीएम मोदी ने पार्टी दफ्तर में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। 2014 लोकसभा चुनाव में भी जीत दर्ज करने के बाद भी उन्होंने मां का आशीर्वाद लिया था और वडोदरा में जनसभा को संबोधित किया था।

इस आग की घटना पर पीएम मोदी ने दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि "सूरत में लगी आग की घटना से दुखी हूं। मेरी संवेदना शोक संतप्‍त परिवारों के साथ है। घायलों के जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना करता हूं। गुजरात सरकार और स्‍थानीय अधिकारियों से प्रभावित लोगों को हर संभव मदद पहुंचाने के लिए कहा गया है।"

सूत्रों की मानें तो यह शपथ ग्रहण पिछली बार की तरह शाम 4 से 5 बजे के बीच ही होगा। इससे पहले प्रधानमंत्री 28 मई को काशी जा सकते हैं और वहां धन्‍यवाद सभा को संबोधित कर सकते हैं। वहीं पीएम मोदी अपनी मां हीरा बेन से आशीर्वाद लेने गांधीनगर जा सकते हैं।

बता दें कि पिछले चुनाव में गुजरात के अप्रत्याशित परिणाम से पिछली बार भाजपा ने सबको चौंका दिया था। 2014 में गुजरात में कांग्रेस के हाथ एक भी सीट नहीं लगी थी। यानी गुजरात उन राज्यों में शामिल है, जहां से भाजपा ने 26 की 26 सीटें जीत ली थी।

लोकसभा चुनाव के नतीजे आने में महज अब 13 दिन शेष रह गए हैं। अब दो चरणों का मतदान बचा है। सात चरणों के चुनाव का छठा चरण रविवार यानी 12 मई को और आखिरी चरण 19 मई को होना है।