Hathras news

Hathras Case: इस मामले में आरोपियों के वकील मुन्ना सिंह पुंडीर ने बताया कि छात्रा के आखिरी 22 सितंबर वाले बयान को आधार मानते हुए सीबीआई(CBI) ने चारों को आरोपी बनाया है।

Hathras Case: चंदपा(Chandpa) क्षेत्र के गांव बूलगढ़ी में युवती के साथ हुई घटना के खुलासे के लिए सीबीआई(CBI Team) जांच में सक्रियता के साथ जुटी है। घटना के वक्त छोटू, वारदात स्थल के पास वाले खेत में काम कर रहा था। उसका दावा है कि मौके पर वो सबसे पहले पहुंचा था।

Hathras Case: इस मामले से जुड़ी याचिकाओं में राज्य सरकार(State Government) पर सवाल खड़े करते हुए आशंका जताई गई थी कि, उत्तर प्रदेश में निष्पक्ष सुनवाई संभव नहीं है, क्योंकि कथित तौर पर जांच बाधित की गयी।

Hathras Case: माना जा रहा है कि हाथरस(Hathras Case) मामले की जांच सीबीआई से करवाने से इसमें कई राज खुल सकते हैं। क्योंकि इस केस को लेकर कई सवाल लोगों के जेहन में दौड़ रहे हैं।

Hathras Case: हाथरस मामले को लेकर विदेशों से 100 करोड़ की फंडिंग हुई है। जिसमें सिर्फ मॉरिशस से 50 करोड़ रुपये आये थे। बता दें कि 50 करोड़ी की फंडिंग को लेकर ईडी(प्रवर्तन निदेशालय) अब जांच शुरू करेगी।

Hathras Case: कांग्रेस(Congress) नेता श्योराज जीवन(Shyoraj Jivan) को लेकर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में अलीगढ़ के थाना गांधी पार्क इलाके से उनके आवास पर समन भेजकर पुलिस के सामने हाजिर होने को कहा था।

Hathras : कांग्रेसी नेता श्योराज जीवन(Congress Leader Shyoraj Jivan) का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें योगी सरकार(Yogi Government) ने सख्त रुख अपनाया था। इतना ही नहीं श्योराज अपने भाषण में आरोपियों के हाथ काटने और आंखें निकालने की धमकी देते नजर आए थे।

Hathras: हाथरस को लेकर बनी वेबसाइट 'जस्टिस फॉर हाथरस विक्टिम' की जांच ईडी करेगा। दरअसल, जांच एजेंसियों को शुरुआती जांच में पता चला है कि पीड़िता को न्याय दिलाने के नाम पर रातों-रात एक वेबसाइट(Hathras Website) बनाई गई।

Hathras Case: इस प्रकार की वेबसाइट(Website) युवाओं में राष्ट्र विरोधी भावनाओं को जागृत कर रहे हैं। इस वेबसाइट के माध्यम से कई प्रकार के राष्ट्र विरोधी दुष्प्रचार भारत(India) में किए जा रहे हैं।

Hathras Case: इस साजिश में अगर आरोपियों पर आरोप सिद्ध होता है तो इसमें सात साल की सजा का प्रावधान है। इसके अलावा जिस तरह से दंगा(Riot) भड़काने के लिए जस्टिस फॉर हाथरस(Justice For Hathras) नाम से वेबसाइट बनाई गई थी, उसके देखते हुए अब इस वेबसाइट की भी जांच होगी