health tips

दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में भी मौसम शुष्क बना हुआ है। ऐसे में गर्मी से संबंधित समस्याएं शरीर को घेर लेती हैं। जैसे हीट-स्ट्रोक, शरीर में थकावट, डिहाइड्रेशन आदि।

रोग प्रतिरोधक क्षमता हमें कई बीमारियों से बचाती है। कुछ बीमारियां ऐसी होती हैं जिनसे हमारा शरीर खुद ही निपट लेता है। लेकिन रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमजोर होने पर बीमारियों का असर जल्दी होता है। ऐसे में शरीर कमजोर हो जाता है और हम जल्दी-जल्दी बीमार पड़ने लगते हैं। आज हम आपको बताएंगे रोग प्रतिरोधक क्षमता आप कैसे बढ़ा सकते हैं और कई छोटी-मोटी बिमारियों से बच सकते हैं।

रात के दौरान अच्छी नींद स्वस्थ शरीर के लिए बहुत आवश्यक है। अगर आप पूरी नींद नहीं ले पाते हैं या गलत समय पर सोते हैं या फिर टुकड़ों में नींद पूरी करते हैं तो इससे आपको निंद्रा विकार की समस्या हो सकती है

सर्दियों के शुरु होने के साथ ही चेहरे पर भी इसका असर दिखने लगता है। सर्दियों में चेहरे का रुखापन बढ़ने से कई परेशानियां सामने आ जाती हैं। आप अपने चेहरे को लेकर खासा चिंतिंत होते हैं। अपने चेहरे को और भी संवारने के लिए सर्दियों में आपको अपनी डाइट में कुछ खास फलों को शामिल करना चाहिए।

फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म पर संवेदनात्मक और भ्रामक स्वास्थ्य, पोषण और फिटनेस संबंधी दावों को रोकने पर काम करना शुरू कर दिया है ताकि आपके न्यूज फीड में इन्हें कम से कम दिखाया जा सके।

पास्चुरीकृत बैक्टीरिया ने प्रतिभागियों में डायबिटीज 2 और दिल की बीमारियों के खतरे को काफी हद तक कम कर दिया।इससे लिवर के स्वास्थ्य में भी सुधार देखा गया, प्रतिभागियों के शारीरिक वजन में भी गिरावट (सामान्यतौर पर 2.3 किलो) देखी गई और इनके साथ ही साथ कोलेस्ट्रोल के स्तर में भी कमी आई।

वसायुक्त यकृत (फैटी लिवर) एक ऐसा विकार है जो वसा के बहुत ज्यादा बनने के कारण होता है, जिससे यकृत यानी आपके जिगर का क्षय हो सकता है।

नई दिल्ली। वो बुजुर्ग जिनकी उम्र 65 साल से ज्यादा है और हाल ही में उन्हें दिल की बीमारी का...