Heart Disease

वायु प्रदूषण (Air Pollution) के तत्व विशेष रूप से पीएम 2.5, बड़े पैमाने पर हृदय रोग (Heart Disease) के लिए खतरा उत्पन्न करता है। कई शोधों में पीएम 2.5 और ब्लड प्रेशर (BP) की समस्या के आपस में जुड़े होने के साक्ष्य सामने आए हैं।

एक हालिया शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि जो लोग प्लांट बेस्ट डायट या पौधे आधारित आहार का सेवन करते हैं और मिठाई, रिफाइंड अनाज और जूस इत्यादि से परहेज करते हैं, उनके दिल का स्वास्थ्य उन लोगों से बेहतर रहता है, जो पौधे आधारित आहार का सेवन नहीं करते हैं।

मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दिल की बीमारियों से मौत का खतरा बढ़ जाता है। टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में लगभग 58 प्रतिशत मौतें हृदय संबंधी परेशानियों के कारण होती हैं। मधुमेह के साथ जुड़े ग्लूकोज के उच्च स्तर से रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचता है, जिससे रक्तचाप और नजर, जोड़ों में दर्द तथा अन्य परेशानियां हो जाती हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि मधुमेह से जुड़ा शर्करा का उच्च स्तर रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है और इससे रक्तचाप, दृष्टि व जोड़ों में दर्द व अन्य दिक्कतें पैदा होती हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि भारत में हार्ट फेलियर सबसे कम पहचानी जाने वाली और सबसे कम जांची जाने वाली स्थिति है, जिसके परिणामस्वरूप यह रोग चुपचाप लेकिन तेजी से रोगियों को मार रहा है।

बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं को दिल की बीमारी का खतरा उन महिलाओं से ज्यादा रहता है, जिनकी कोई संतान नहीं है। यह बात एक हालिया शोध में प्रकाश में आई है।

नई दिल्ली। आम जनजीवन में हृदय रोग तेजी से फैलता जा रहा है। हर उम्र के लोग इसके शिकार हो...

न्यूयार्क। रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं को हृदयाघात के खतरे से बचने के लिए व्यायाम करनी चाहिए और कम कैलोरी वाले...

न्यूयॉर्क। महिलाओं के गर्भवती होने के दौरान, जन्म देने या प्रसव के दो महीने के बाद उनमें दिल का दौरा...

लंदन। एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनोडेफिसियंसी वायरस) से संक्रमित लोगों में दिल के रोगों के होने की संभावना दोगुनी होती है।  शोध...