iaf

खबर है कि लंबी दूरी के दो बोइंग 777-300ER विमान भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे ना कि एअर इंडिया को मिलेंगे। एक अखबार के मुताबिक विमान में एंटी मिसाइल तकनीक लगी होगी।

राजनाथ सिंह ने उड़ान पूरी होने के बाद मीडिया चैनलों से कहा, "राफेल विमान के भारतीय अधिग्रहण का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाना चाहिए। यह उनकी निर्णायक क्षमता के कारण संभव हुआ। भारत फरवरी 2021 तक प्रथम 18 राफेल विमान प्राप्त कर लेगा। अप्रैल-मई 2022 तक हमें सभी 36 विमान मिल जाएंगे।"

ये एक ऐसी कहानी है जिसे पढ़कर आप भारतीय सेनाओं के शौर्य और एक हिंदुस्तानी महिला के जूनून दोनों को सैल्यूट कर उठेंगे। एक एयरफोर्स अधिकारी की पत्नी का ये कदम देश भर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

राफेल विमान भारतीय वायुसेना के भविष्य का गौरव साबित होने जा रहे हैं। ये विमान पाकिस्तान के होश उड़ा देंगे। ये किसी नेता या ब्यूरोक्रेट का बयान नही है बल्कि एयरफोर्स के एयर वाइस मार्शल का एलान है।

राफेल में उड़ान के अनुभव शेयर करते हुए कहा,'यह एक बहुत अच्छा अनुभव था। यहां हमने इससे जुड़े कई पाठ सीखे हैं कि कैसे हम राफेल का भारतीय वायुसेना में बेहतर उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा हम यह भी जानेंगे कि  Su-30 के साथ इसका संयोजन किस तरह किया जा सकता है।'

भारतीय वायु सेना के हल्के लड़ाकू विमान तेजस का फ्यूल टैंक मंगलवार को उड़ान के दौरान तमिलनाडु के सुलुर एयरबेस के पास खेत में गिर गया। IAF ने इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं।

पायलट ने सूझबूझ का परिचय देते हुए विमान में लगे हुए अतिरिक्त फ्यूल टैंक और ट्रेनिंग बम को नीचे गिरा दिया। जिसके बाद विमान की अंबाला एयरफोर्स बेस पर सुरक्षित लैंडिंग हो गई। विमान से गिराए गए फ्यूल टैंक और ट्रेनिंग बम को बरामद कर लिया गया है।

गुरुवार को ईस्टर्न एयर कमांड के एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, एयर मार्शल आर डी माथुर ने जोरहाट में एक श्रद्धांजलि समारोह में वायुसेना के कर्मियों को श्रद्धांजलि दी।

भारतीय वायुसेना की सर्च टीम आज सुबह एएन-32 की क्रैश साइट पर पहुंची। टीम को वहां कोई भी जीवित नहीं मिला। इसी वजह से विमान में सवार 13 लोगों के परिवारों को सूचित कर दिया गया है कि कोई जीवित नहीं है।

ट्रांसपोर्टर विमान सोमवार को जोरहाट से दोपहर 12.27 बजे मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए रवाना हुआ। विमान में वायुसेना के कर्मी सवार थे और उसने आखिरी बार करीब दोपहर एक बजे ग्राउंड एजेंसियों से संपर्क किया था। इसके बाद, विमान के साथ कोई संपर्क नहीं हो पाया।