Indian Council of Medical Research (ICMR)

वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के अनुसार, 29 जुलाई तक टेस्ट किए गए कोविड-19 सैंपलों की कुल संख्या 1,81,90,382 है, जिसमें 4,46,642 सैंपलों का टेस्ट बुधवार को किया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश के करोड़ों नागरिक, कोरोना वैश्विक महामारी से बहुत बहादुरी से लड़ रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि आज जिन हाई टेक टेस्टिंग फेसिलिटी का लॉन्च हुआ है, उससे पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश को कोरोना के खिलाफ लड़ाई में और ताकत मिलने वाली है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, रविवार 26 जुलाई को देशभर में कुल 515472 कोरोना टेस्ट हुए हैं, जो एक दिन में अबतक हुए सबसे ज्यादा टेस्ट है।

वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 22 जुलाई तक टेस्ट किए गए कोरोनावायरस सैंपलों की कुल संख्या 1,50,75,369 है, जिसमें 3,50,823  सैंपलों का टेस्ट बीते 24 घंटे में किया गया।

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, इस संक्रमण से अब तक 6,12,814 मरीज उबर चुके हैं, वहीं सक्रिय मामलों की संख्या 3,31,146 है। रिकवरी की दर 63.24 प्रतिशत तक पहुंच गई है। भारत, दुनियाभर में अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरा सबसे बुरी तरह से प्रभावित देश है।

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस के सर्वाधिक 29,429 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि इस दौरान 582 लोगों की मौत होने की पुष्टि हुई है। इसी के साथ देश में संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 9,36,181 हो गया है और अब तक 24,309 मरीजों की मौत हो चुकी है।

बुधवार को आईआईटी दिल्ली के निदेशक वी रामगोपाल राव और उनकी टीम ने कोरोना कि यह किट केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की उपस्थिति में सार्वजनिक किया।

बलराम भार्गव ने देश में विकसित दो टीकों का संदर्भ देते हुए कहा कि क्योंकि भारत दुनिया में सबसे बड़े टीका निर्माताओं में से एक है, इसलिए कोरोनावायरस प्रसार की कड़ी को तोड़ने के लिए टीका विकास प्रक्रिया को तेज करना देश का ‘‘नैतिक दायित्व’’ है।

देश में कोविड-19 रोगियों के बीच रिकवरी दर में वृद्धि जारी है और यह 61.53 प्रतिशत तक पहुंच गया है। हालांकि, भारत अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरा सबसे अधिक प्रभावित देश है।

इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 7,42,417 हो गई है। जिनमें से 2,64,944 सक्रिय मामले हैं, 4,56,831 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 20,642 लोगों की मौत हो चुकी है।