Indo-China border dispute

सेना और वायु सेना द्वारा लद्दाख सेक्टर के फॉरवर्ड इलाकों में चीन की सीमा के साथ तैनात किया गया है। ड्रोन चीनी सेना द्वारा disengagement को सत्यापित करने में मदद कर रहे हैं और साथ ही साथ उनकी टुकड़ियों की संख्या की जानकारी पता लगाने में भी मददगार साबित हो रहे हैं।

राहुल गांधी के इन सवालों का जवाब दिया है खुद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने। उन्होंने राहुल गांधी को प्वाइंट टू प्वाइट पूरी विदेश नीति समझाई है।

वैसे तो चीन का भारत के साथ सीमा-विवाद कोई नई और अनोखी बात नहीं है। डोकलाम प्रकरण भी पुरानी बात नहीं है। मगर पिछले कुछ वर्षों में भारत द्वारा अपने सीमाई क्षेत्रों में सड़क, पुल, मोबाइल टॉवर और हवाई पट्टी आदि के निर्माण में विशेष तेजी दिखाई गई है।

भारतीय सेना के सूत्रों की तरफ से जानकारी दी गई है कि चीनी सेना ने सोमवार को ही वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास से अपने अस्थाई निर्माण हटाने शुरू कर दिए थे।

59 चीनी ऐप्स को बैन किए जाने के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देशवासियों की रक्षा के लिए भारत डिजिटिल स्ट्राइक भी कर सकता है।

राजनाथ सिंह के साथ आर्मी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवणे भी होंगे।‬ ‪वो लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल की फॉरवर्ड लोकेशन पर जवानों से मुलाक़ात करेंगे।‬ ‪हा

इस एप को 2015 में ज्वाइन करते वक्त पीएम नरेंद्र मोदी ने उम्मीद जाहिर की थी कि दोनों देशों के बीच संबंध और सौहार्द्रपूर्ण होंगे।

चीन के साथ बढ़ते सीमा विवाद के बीच भारत जमीनी टारगेट्स को निशाना बनाने की अपनी शक्ति और मजबूत करना चाहता है।

एक वीडियो संदेश में, राहुल गांधी ने कहा, कोरोनावायरस ने गरीबों, मध्यम और मजदूर वर्गों, वेतनभोगियों को जबरदस्त चोट पहुंचाया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को राष्ट्र के नाम संदेश देंगे। पीएमओ की तरफ से जारी सूचना के मुताबिक, मोदी शाम चार बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे।