Iran

ईरान में कोरोनावायरस के मामलों में अब कुछ कमी आने के संकेत दिखने लगे हैं। ईरान मध्यपूर्व के उन देशों में शामिल है, जो इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। हालांकि वायरस से संक्रमित कुल मामलों की संख्या अब भी 20,610 है।

ईरान से निकाले गए 53 लोगों का नया बैच सोमवार को जैसलमेर के आर्मी वेलनेस सेंटर पहुंचा। कोरोनावायरस प्रकोप के चलते मध्य-पूर्वी देश में अब तक 700 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं, जिसके कारण भारत अपने नागरिकों को वहां से निकाल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस के खतरे को लेकर बीते दिनों हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों से ईरान में फंसे भारतीयों की जल्द सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए कहा था।

सऊदी अरब ने राज्य में नोवल कोरोनावायरस (कोविड-19) के प्रसार को रोकने के लिए स्कूलों और विश्वविद्यालयों को निलंबित करने की घोषणा की है।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से वाशिंगटन में मुलाकात की और ईरान और अफगानिस्तान सहित कई मुद्दों पर चर्चा की। अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा जारी बयान में यह जानकारी दी गई।

ईरान द्वारा इराक स्थित अमेरिकी बेस पर पिछले हफ्ते किए गए हमले में 11 अमेरिकी सैनिक घायल हुए थे। समाचार एजेंसी एएफपी न्यूज ने मध्य कमान के हवाले से यह जानकारी दी है। जानकारी के मुताबिक पिछले हफ्ते ईरान के हमले में 11 अमेरिकी सैनिक घायल हुए थे।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने सऊदी अरब के दौरे पर सऊदी किंग सलमान बिन अब्दुलअजीज और अन्य अधिकारियों से मुलाकात की और दोनों देशों के बीच सहयोग पर चर्चा की।

उन्होंने कहा कि ईरान ने बार-बार घोषणा की है कि वह क्षेत्रीय देशों में घनिष्ठ सहयोग बढ़ाने के लिए तैयार है। खामेनी ने ईरान और कतर के बीच आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देने का भी आग्रह किया।

आरोप यह भी कि उन्होंने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया है। पर ईरान की इस कार्रवाई से ब्रिटेन बेहद नाराज है। दरअसल ब्रिटेन के राजदूत विमान हादसे में मारे गए लोगों की शोक सभा में शामिल हुए थे।

इससे पहले ईरान ने कहा था कि विमान में खराबी की वजह से हादसा हुआ। विमान ने तेहरान के इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से यूक्रेन की राजधानी कीव के बोर्यस्पिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे लिए उड़ान भरी थी। बोइंग विमान में 176 लोग सवार थे। सभी लोगों की मौत हो गई।