Jaish-E-mohammed

J&K: जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में डीडीसी के चुनाव के लिए छठे दौर का मतदान रविवार को हो रहा था। इस सब के बीच वहां हो रहे मतदान को प्रभावित करने के लिए पाकिस्तान समर्थित आतंकियों (Pakistani Terrorist) ने कोशिश तो शुरू की लेकिन वह ऐसा करने में कामयाब नहीं हो सके।

Nagrota case: जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) से एक और आतंकी पकड़ा (Terrorist Arrested) गया है। ये आतंकी जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा है। पकड़ा गया आतंकी त्राल का रहने वाला बताया जा रहा है।

Pulwama type Attack Averted in Jammu Kashmir: आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद(Jaish-e-Mohammed) के आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने पर सेना(Indian Army) और CRPF के साथ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अवंतिपोरा(Awantipora) में गाडीखाल गांव के जंगलों के पास एक नर्सरी क्षेत्र की संयुक्त तलाशी ली।

पाकिस्तान के रावलपिंडी में आतंकी संगठन (Terror Organization) जैश ए मोहम्मद (Jaish E Mohammed) और पाकिस्तानी इंटेलिजेंस एजेंसी ISI के बीच एक मीटिंग हुई हैं।

आतंकी बिलाल अहमद पुलवामा में ही अपनी आरा मिल चलाता है, और इसी से वो अपना घर भी चलाता था। फिर बीच में आतंकियों के संपर्क में आया और आतंकी संगठन जैश के लिए वो काम करने लगा।

पुलिस ने एक बयान में कहा, "पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, इनके पाकिस्तान स्थित आतंकी संचालकों के साथ करीबी संबंध हैं और नशे के धंधे, हथियारों की आपूर्ति में शामिल होने के अलावा, यह प्रतिबंधित आतंकी संगठन जेईएम के सक्रिय आतंकवादियों की वित्तीय मदद भी करते थे।"

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों ने एक बहुत बड़ी साजिश नाकाम की है। 50 किलो वाले इस बारूदी प्लान को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है।

उन्होंने कहा कि घेरा कड़ा कर दिया गया और सुबह बम निरोधक दस्ता मौके पर पहुंचा और उसने पाया कि वाहन विस्फोटक से भरा हुआ है। आईजी ने कहा, "पुलिस, सीआरपीएफ और सेना की टीमें मौके पर पहुंचीं और आईईडी को डिफ्यूज कर एक बड़ी त्रासदी को टाला गया।"

टीआरएफ ने कहा कि कुछ दिन पहले हमने हिजबुल को चेतावनी दी थी कि कश्मीरी पुलिस वालों और सिविलियंस को मारना बंद करें। उन्होंने फिर एक जम्मू-कश्मीर पुलिस वाले को किडनैप किया। टीआरएफ ने चेतावनी देते हुए कहा कि हिजबुल को यह समझना चाहिए कि हमारी लड़ाई सेना से है न कि कश्मीरियों से। हम इन लोगों के सपॉर्ट के बिना सेना से नहीं लड़ सकते। 

नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना पर हमले को अंजाम देने के लिए आतंकियों के करीब 50 लॉन्चिंग पैड तैयार किए हैं।