kota

सीएम योगी ने कोटा के बच्चों की तरह ही नेपाली छात्रों के लिए तत्काल बस की व्यवस्था करवाई और सभी छात्रों को सकुशल और सुरक्षित तरीके से भारत-नेपाल सीमा पर पहुंचाया।

लॉकडाउन के चलते कोटा राजस्थान में करीब 12,000 छात्र लाकडाउन में फंसे थे, जिन्हें सकुशल घर पहुंचाने के लिए योगी सरकार ने मुफ्त बसें चलाई थी

राजस्थान के कोटा से 540 छात्र दिल्ली पहुंच गये हैं। 40 बसों में सवार ये छात्र सुबह 5 बजे दिल्ली के कश्मीरी गेट बस अड्डे पर पहुंचे। सभी छात्रों का मेडिकल परीक्षण कर उनको अपने अपने घरों को भेज दिया गया है।

राजस्थान के कोटा से कई स्टूडेंट्स को रोडवेज की बसों से प्रयागराज लाया गया। जिसमें 13 छात्राएं और 31 छात्र हैं।

राजस्‍थान के कोटा में कुछ महिलाओं द्वारा प्‍लास्टिक बैग मे थूककर इसे कुछ घरों में फेंकने की तस्‍वीरें सामने आई। इस खबर के आने के बाद से लोग काफी परेशान हो गए।

गौरतलब है कि कोरोनावायरस की महामारी के चलते सार्वजनिक स्‍थलों पर थूकने को प्रतिबंधित किया गया है, ऐसे में इन महिलाओं की 'हरकत' ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। घटना सामने आने के बाद पुलिस सतर्क हो गई है।

इससे पहले गहलोत ने प्रदेश पार्टी अध्यक्ष सचिन पायलट पर निशाना साधा था। सचिन पायलट ने कोटा जाकर शिशुओं के परिवारों से मुलाकात की थी।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोटा में बच्चों की मौत पर फिर से विवादास्पद बयान दे दिया है। इस बार उन्होंने बीजेपी के दौर से इसकी तुलना की है और अपनी पीठ ठोंकी है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में भी बच्चों की मौत को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। जोधपुर के सरकारी अस्पतालों में दिसंबर महीने में ही 146 बच्चे की मौत हुई है।