ladakh

सीमा पर चीन (China) लगातार नापाक साजिशों को अंजाम देने में लगा हुआ है। इतना ही नहीं पैंगोंग सो झील के दक्षिणी छोर पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) भारतीय सैनिकों को लगातार उकसाने की कोशिश भी कर रहा है।

लद्दाख (Ladakh) में भारत और चीनी सैनिकों के बीच सात सितंबर की झड़प के बाद लगभग 40 से 50 चीनी सैनिक भाले, बंदूक और तेज धार वाले हथियारों से लैस होकर पूर्वी लद्दाख में रेजांग ला (Rezang la) के उत्तर में ऊंचाई वाले स्थानों पर भारतीय सेना (Indian Army) की पोजिशन से कुछ मीटर की दूरी पर आ गए हैं।

मोदी सरकार (Modi Government) की महत्वाकांक्षी योजना 'वन नेशन वन राशन कार्ड' (one nation one ration card) से लक्षद्वीप (Lakshadweep) और लद्दाख (Ladakh) के जुड़ने के बाद अब 26 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी उपलब्ध हो गई है।

लद्दाख (Laddakh) में भारतीय सेना (Indian Army) अब और भी सतर्क हो गई है। भारतीय सेना ने चीन (China) को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सैन्य ताकत और बढ़ा दी है।

भारत और चीन में सीमा विवाद (India China Border Dispute) के बीच भारत हिमाचल प्रदेश के दारचा (Darcha) से लद्दाख (Laddakh) तक जाने वाली 290 किमी लंबी सड़क तेजी से (India Making Road) बना रहा है। इससे अग्रिम मोर्चे तक भारी हथियार (Heavy Weapons) और सैनिक ( and soldiers) ले जाने में आसानी होगी।

चीन सीमा पर चल रहे तनाव के बीच बीआरओ ने लद्दाख में Lukung को Khakted से जोड़ने वाली सड़क का काम पूरा कर लिया है।

भारत सरकार लद्दाख (Ladakh) में अब दुश्मनों को सबक सिखाने के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही है। दरअसल भारतीय सेना (Indian Army) अब लद्दाख में बिना दुश्मनों की नजर में आए अपनी गतिविधियों को अंजाम दे सकेगी।

भारत-चीन (India China) के बीच हुए सीमा विवाद (Border dispute) को सुलझाने के लिए आज डब्ल्यूएमसीसी (WMCC) की बैठक होगी। इस बैठक में पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में एलएसी (LAC) पर दोनों देशों के बीच तनाव कम करने और सैनिकों को पीछे हटाने पर बातचीत होगी।

पूरा देश आज 74वां स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मना रहा है। ऐसे में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के जवानों ने लद्दाख में 17,000 फीट की ऊंचाई पर स्वतंत्रता दिवस मनाया।

भारत और चीन में सीमा विवाद (India and China Border dispute) के बीच इन दिनों चीन की टेंशन बढ़ गई है। राफेल (Rafael) के अभ्यास से चीन (China) घबरा गया है जिससे डरकर चीन ने अपने होतान एयरबेस पर 36 बमवर्षक विमान उतार दिये हैं।