ladakh

भारत ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) और लद्दाख (laddakh) के मेडिकल कॉलेजों की डिग्री की भारत में मान्यता को लेकर बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत पीओजेकेएल (POJKL) के मेडिकल कॉलेजों की डिग्री भारत में बैन कर दी है।

कोरोना और भारत से सीमा विवाद को लेकर चौतरफा घिरा गया है। भारत और चीन में लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चल रहे सीमा विवाद को लेकर चीन का कहना है कि भारत के साथ सीमा पर शांति कायम करना और विवादित मुद्दों को हल करना ही उसकी प्राथमिकता है।

दरअसल भारत-चीन तनाव को देखते हुए पहाड़ी क्षेत्र में किसी भी संभावित युद्ध की तैयारी के लिए वायुसेना के पायलट हिमाचल प्रदेश में राफेल जेट के साथ ट्रेनिंग कर रहे हैं।

नई दिल्ली। नेपाल की राह पर पाकिस्तान भी चल पड़ा है। पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने विवादित नक्शे को...

पाकिस्तान से पहले नेपाल ने भी ऐसा ही कारनामा किया है। उसने भी विवादित नक्शे को मंजूरी दी, जिसमें भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को शामिल किया गया।

भारत की पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी सहित कई इलाकों से चीनी सैनिक पीछे हटने को मजबूर तो हो गए, मगर अब अक्साई चिन में करीब 50 हजार PLA सैनिक तैनात कर दिए गए हैं। ऐसे में खतरे को भांपते हुए भारत ने भी तैयारी कर ली है।

भारत ने गुरुवार को सरकारी कॉन्ट्रैक्ट को लेकर पड़ोसी देशों के लिए नियम सख्त कर दिए है। नए नियमों के मुताबिक, सरकारी कॉन्ट्रैक्ट के लिए अब पड़ोसी देशों के बिडर्स को पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा और सिक्योरिटी क्लियरेंस लेनी होगी।

लद्दाख में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन में सीमा विवाद और बढ़ गया था। जिसके बाद पैदा हुए तनाव के बीच भारत और अमेरिका ने बंगाल की खाड़ी में मिलिट्री एक्सरसाइज शुरू की है।

भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को गुजरात और केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख में नए अध्यक्षों की तैनाती की। गुजरात की कमान सांसद सीआर पाटिल तो लद्दाख के लिए सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल को चुना गया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को यह नियुक्ति की।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारत शांति चाहता है लेकिन चीन के साथ वार्ता का कोई अंतिम नतीजा निकलने की गारंटी नहीं है। उन्होंने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीन के साथ विवादपूर्ण सीमा क्षेत्रों में सैन्य तैयारियों का जायजा लिया और जमीनी स्थिति की समीक्षा की।