Lifestyle

कोराना वायरस की चपेट में आने वाले ज्यादातर लोग वहीं हैं जिनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर है, जो कि बच्चों और बुजुर्गों में आम तौर पर देखा जाता है। कमजोर इम्यूनिटी वाले लोग आसानी से वायरस का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खान-पान का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। आइए जानते हैं कि कौन से फूड शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम करते हैं।

हर लड़की का सपना होता है लंबे, घने और सिल्की बाल का। लेकिन बदलते लाइफस्टाइल के चलते आप अपने बालों का ख्याल नहीं रख पाते। जिससे बाल झड़ने,रूसी और रूखे बालों की समस्या हो जाती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे अपना सकते है।

कोरोनोवायरस का फैलाव रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के दौरान 50.8 प्रतिशत महिलाओं के मुकाबले, लगभग 56.2 प्रतिशत पुरुषों ने बच्चों की देखभाल की जिम्मेदारी निभाई। नवीनतम आईएएनएस-सी वोटर इकोनॉमी बैटरी सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है।

दुनिया भर में हर साल 12 मई यानि आज के दिन अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाया जाता है। मरीजों को जिंदगी देने में जितना योगदान डॉक्टर्स का है, उससे कहीं ज्यादा योगदान नर्स का है। मरीजों की सेवा नर्स तन और मन से सेवा करती है। अपनी परवाह किए बिना मरीज की जान बचाती हैं।

इंसान के शरीर का सबसे नाजुक हिस्सा होता है आंखे और इसकी देखभाल भी उसी प्रकार की जानी चाहिए। बदलते लाइफस्टाइल का असर चेहरे के साथ-साथ आंखों के नीचे डार्क सर्कल के रूप मे पड़ता है। ऐसे में इन डार्क सर्कल्स को कम करने के लिए बाजार में कई तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स आते हैं लेकिन इनके साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं।

10 मई को 'मदर्स डे' मनाया जाता है। इसकी शुरुआत को लेकर विशेषज्ञों में मतभेद है, जिसके चलते यह कई देशों में अलग-अलग तारीखों को मनाया जाता है। इसे मनाने का मुख्य उद्देश्य मां की निःस्वार्थ सेवा और प्यार के बदले उन्हें सम्मान और धन्यवाद देने के लिए लोगों को जागरूक करना है। हालांकि, भारत में इसे अमेरिका की तर्ज पर मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है।

कैंसर एक खतरनाक बीमारी है। इसके बारे में महत्वपूर्ण और खतरनाक बात यह है कि इसका पता आमतौर पर काफी लेट चलता है और इस कारण इसके इलाज में कई कॉम्पलिकेशन्स आते हैं।

केजीएमयू लारी के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अक्षय प्रधान ने कहा, "हृदय रोगी कोविड-19 संक्रमण से डरे नहीं बल्कि सचेत रहें। इसके मरीजों को चाहिए कि वह कोरोना का अधिक भय न रखें। नियमित दवा लें, योग-व्यायाम भी करते रहें। साथ ही अन्य लोगों की तरह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने पर कोरोना उन्हें छू भी नहीं पाएगा।"

डॉ. सक्सेना बताती हैं कि इस समय हमें प्रतिदिन 1800 से 1900 कैलोरी की आवश्यकता है क्योंकि हमारी गतिविधियां बहुत अधिक मेहनत वाली नहीं हैं। यदि हम अपनी ऊर्जा की खपत नहीं करेंगे तो हमारा वजन बढ़ना लाजिमी है। इसलिए हमें कुछ न कुछ काम करते रहना चाहिए ताकि हमारी ऊर्जा की खपत हो। आप हांथ से कपड़े धोते हैं और उन्हें तह कर रखते हैं तो आप 1 घंटे में 148 कैलोरी बर्न कर सकते हैं। इसी तरह आप हाथों से बर्तन साफ कर 128 कैलोरी बर्न कर सकते हैं।

केजीएमयू लखनऊ के रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष और कोरोना टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. सूर्यकान्त ने बताया कि "धूम्रपान से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है, जिसके चलते कोरोना जैसे वायरस आसानी से ऐसे लोगों को अपनी चपेट में ले लेते हैं। इसके अलावा बीमारी की चपेट में आने पर ऐसे लोगों के इलाज पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।"