Lockdown Corona

प्रधानमंत्री ने सामूहिक रूप से संपूर्ण मानव जाति के लिए एक नए वैश्वीकरण की शुरुआत करने का आह्वान किया। साथ ही कहा कि चिकित्सा अनुसंधान स्वतंत्र रूप से सभी देशों के लिए उपलब्ध होना चाहिए।

इधर कोरोना वायरस से इस वक्त 172 देश प्रभावित हैं। जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक इस बीमारी से 4 लाख 38 हजार लोग संक्रमित हो चुके हैं। जबकि इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 19500 को पार कर चुकी है।

वैज्ञानिक के मुताबिक, अमेरिका या इटली में कोविड-19 धीरे-धीरे फैला और फिर अचानक तेजी से मामले आए। मौजूदा अनुमान देश में शुरुआती चरण के आंकड़ों पर है, जो कि कम टेस्टिंग की वजह से है।

कुछ लोग ऐसे पाए जा रहे हैं जो इस वायरस को बहुत हल्के में ले रहे हैं। वो ना तो इससे सतर्क रह रहे हैं और ना ही इसको लेकर गंभीर नजर आ रहे हैं।

मस्जिदों के पदाधिकारियों से नमाज के समय सिर्फ अजान करके लोगों को जानकारी देने का अनुरोध किया था और नमाज घरों में पढ़ने की बात कही थी।

लोगों से कोरोना के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा, "हमें लगता है कि कोरोना के खतरे को हौव्वा बनाकर पेश किया गया है। 42 फीसदी भारतीय इस विचार से मजबूते से सहमत नजर आए जबकि 12 फीसदी इससे सिर्फ सहमत नजर आए।"

ICMR की ताजा स्टडी भी इसी ओर इशारा कर रही है कि अगर सख्ती के साथ क्वारंटीन, होम स्टे जैसे फॉर्मूले को अपना लिया जाए तो इस वायरस के अनुमानित संदिग्ध केसों में 62 प्रतिशत तक गिरावट आ सकती है।