lok sabha elections 2019

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को मतदाताओं का आभार जताने के लिए अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड जाएंगे। लोकसभा चुनाव में जीत के बाद यह उनका पहला दौरा है।

एग्जिट पोल्स में फिर से मोदी सरकार के संकतों के बाद नतीजों के आधिकारिक ऐलान से पहले ही नशीद ने ट्वीट किया, 'भारतीय चुनाव खत्म हो चुके हैं, इसके साथ ही नरेंद्र मोदी और भाजपा को बधाई। मुझे यकीन है कि मालदीव की जनता और सरकार प्रधानमंत्री और भाजपा की अगुआई वाली सरकार के साथ नजदीकी सहयोग जारी रखने में खुशी महसूस करेंगी।'

उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर लिखा, ''मीडिया में दिखाया जा रहा हर एक्जिट पोल (Exit Poll) गलत नहीं हो सकता है।  वक्त आ गया है कि सोशल मीडिया से संन्यास ले लिया जाए और टीवी बंद कर दिया जाए। देखने वाली बात है कि 23 तारीख को चुनाव परिणाम आने के बाद पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है कि नहीं।''

वहीं एग्जिट पोल के नतीजों को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने झठूा करार दिया। टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने एग्जिट पोल्स के नतीजों को खारिज किया।

मायावती की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी से मुलाकात की खबरों के बीच बीएसपी ने कहा है कि उनकी कोई बैठक नहीं है। पहले बताया जा रहा था कि मायावती सोमवार को राहुल और सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगी।

न्यूज रूम पोस्ट की तरफ से इन आंकड़ों का औसत निकालकर भी एग्जिट पोल के आंकड़े का पूरा विश्लेषण पेश किया जाएगा। ताकि सर्वे के आंकड़ों के नतीजे के आधार पर सटीक भविष्यवाणी की जा सके। जो नतीजों के आसपास रहे।

सासाराम लोकसभा क्षेत्र में छह विधानसभा सीटें मोहनिया, भभुआ, चौनपुर, चेनारी, सासाराम और करहगर आती हैं। इनमें तीन विधानसभा सीटें रोहतास जिले की, जबकि तीन कैमूर जिले की हैं। 

सोनिया गांधी से लेकर शीला दीक्षित तक ने छठे चरण में डाला वोट, देखें तस्वीरें

वाराणसी में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे कांग्रेस नेता अजय राय के समर्थन में नुक्कड़ सभा करने पहुंचे संजय निरुपम ने कहा, ''वाराणसी के लोगों ने जिस व्यक्ति को चुना वे औरंगजेब के आधुनिक अवतार हैं। क्योंकि यहां पर कॉरिडोर के नाम पर सैकड़ों मंदिरों को तुड़वाया गया और विश्वानाथ मंदिर में दर्शन के नाम पर 550 रूपए का फीस लगाया गया।''

सुषमा स्वराज ने प्रियंका गांधी को संबोधित करते हुए अपने पहले ट्वीट में लिखा, प्रियंका जी- आज आपने अहंकार की बात की। मैं आपको याद दिला दूं कि अहंकार की पराकाष्ठा तो उस दिन हुई थी जिस दिन राहुल जी ने अपने ही प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह जी का अपमान करते हुए राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश को फाड़ कर फेंका था। कौन किसको सुना रहा है?